आपदाओं से बचाव एवं निपटने हेतु लोगों को जागरूक करें – कलेक्टर

शिवपुरी (IDS-PRO) कलेक्टर श्री राजीव दुबे ने कहा कि आपदा से निपटने हेतु लोगों को जागरूक करने की आवश्यकता है। जिससे आपदा के दौरान कम से कम हानि हो सके। इसके लिए हमें जनजागरूकता शिविर भी आयोजित करने होंगे। उक्त आशय के विचार कलेक्टर श्री दुबे ने आपदाओं से निपटने हेतु दो दिवसीय आपदा प्रबंधन प्रशिक्षण कार्यशाला में मुख्य अतिथि के रूप में व्यक्त किए। कार्यक्रम की अध्यक्षता पुलिस अधीक्षक श्री एम.एल.छारी ने की। आईटीव्हीपी के कमाण्डेट श्री रोशनलाल ठाकुर विशेष अतिथि के रूप में उपस्थित थे। इस मौके पर होमगार्ड के जवानो आदि ने आपदा के दौरान उपलब्ध घरेलू संसाधनों का बेहतर उपयोग कर जनसामान्य की रक्षा कैसे की जा सके इसका बखूवी प्रदर्शन किया।

होमगार्ड कार्यालय परिसर में आयोजित दो दिवसीय आपदा प्रबंधन कार्यशाला का जिला कलेक्टर श्री दुबे ने मां सरस्वती के चित्र पर माल्यापर्ण एवं द्वीप प्रज्जवलित कर शुभारंभ करते हुए कहा कि आपदा के दौरान संयम एवं धैर्य से काम करना चाहिए। आपदा से बचाव एवं उससे निपटने हेतु लोगों को जागरूक करने के लिए विभिन्न स्तरों पर जागरूकता के शिविर आयोजित किए जाए। इन शिविरों में अधिक से अधिक लोगों को जोड़े। उन्होंने आपदा के दौरान होमगार्ड के सैनिकों की सूझबूझ एवं बहादुरी की सराहना करते हुए कहा कि वे भी अपने अनुभवों से जनसामान्य को लाभान्वित करें। जिससे आपदा के दौरान कम से कम हानि हो सके।

पुलिस अधीक्षक श्री एम.एल.छारी ने अपने उद्बोधन में कहा कि किसी भी प्रकार की आपदा बिना सूचना के आती है। अतः हमें सभी प्रकार की आपदाओं से निपटने हेतु पूरी तैयारी के साथ अपडेट रहना होगा। उन्होंने कहा कि आपदा प्रबंधन को छात्र-छात्राओं के पाठ्यक्रमों में भी शामिल किया गया है। इस प्रकार की कार्यशालाओं से जहां लोग आपदा प्रबंधन के प्रति जागरूक होंगे, वहीं इनसे निपटने के लिए भी तैयार रहेंगे। उन्होंने कहा कि आपदा के दौरान कई प्रकार की अफवाए फैलती है हमें इन अफवाओं पर ध्यान नहीं देना है, बल्कि हिम्मत और धैर्य के साथ कार्य करना है।

आईटीव्हीपी के कमाण्डेट श्री रोशनलाल ठाकुर ने कहा कि आपदाये दो प्रकार की होती है एक प्राकृतिक आपदा और दूसरी रसायनिक या कृतिम आपदा। प्राकृतिक आपदाओं में बाढ़, भूकंप, भूस्खलन, बादलों का फटना आदि है, ये आपदाये बिना किसी सूचना के आती है। उन्होंने कहा कि प्राकृतिक आपदाओं के पीछे ग्लोवलवारर्मिंग के साथ-साथ जलवायु असंतुलन भी है। श्री ठाकुर कहा कि आपदा के दौरान पहली प्राथमिकता पीढि़त व्यक्तियों को त्वरित सहायता एवं रेस्क्यू करना है, जिसका हमें समय-समय पर अभ्यास भी करना चाहिए।
होमगार्ड कमाण्डेट श्री आर.पी.मीना ने स्वागत भाषण देते हुए बताया कि होमगार्ड के जवानों के माध्यम से गांव एवं शहरों में घरों में उपलब्ध संसाधनों का उपयोग कर प्राकृतिक आपदा से कैसे बचा जाए। इसके लिए नवयुवकों को प्रशिक्षित किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि इस दो दिवसीय कार्यशाला के माध्यम से विभिन्न विभागों के कर्मचारी एवं अधिकारियों को आपदा से निपटने के टिप्स दिए जाएगें। कार्यशाला में आपदा से पीडि़त व्यक्तियों को किस प्रकार से सहायता दी जाए। इसके लिए फिल्म डाक्यूमेंटरी का भी प्रदर्शन किया गया। इस मौके पर होमगार्ड के कमाण्डेट श्री मीना ने अतिथियों को स्मृति चिन्ह प्रदाय किए।

Review Overview

User Rating: Be the first one !

: यह भी पढ़े :

Indore Dil Se - News

ख़बर सीधी एवं सरल भाषा में लिखे, जिससे जनमानस भी पढ़ एवं समझ सके – कलेक्टर

शिवपुरी (आई.डी.एस.) कलेक्टर श्री ओमप्रकाश श्रीवास्तव ने कहा कि पत्रकार भाई समाचार लिखते वक्त इस …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »