इंतजार

तकती रही
राह मै तेरी ,,
करती रही इंतजार ,
मै तेरी ,
बीते दिन ,
कटे महीने ,
गुजर गए ,
अब ,जाने,
कितने साल ,
खामोश हो गई जुबां ,
नैनो ने नीर सोख लिया है ,
कुसुम सी, जिन्दगी ,
अब बिरहन हो गई है ,
धुंधली हो गई आँखे ,
दिल में धूल जमी है,
यादो में बसा है ,
वो एक चेहरा ,
जिसमे नहीं नमी है ,
आते ही याद उसकी
मन तितली , वो भौरा ,
तन कंचन हो जाता है
तब “प्रेम” की फुनगी ,
फूटती है अंग -अंग से !!!

Author: Neelu Prem (नीलू प्रेम)

तकती रही राह मै तेरी ,, करती रही इंतजार , मै तेरी , बीते दिन , कटे महीने , गुजर गए , अब ,जाने, कितने साल , खामोश हो गई जुबां , नैनो ने नीर सोख लिया है , कुसुम सी, जिन्दगी , अब बिरहन हो गई है , धुंधली हो गई आँखे , दिल में धूल जमी है, यादो में बसा है , वो एक चेहरा , जिसमे नहीं नमी है , आते ही याद उसकी मन तितली , वो भौरा , तन कंचन हो जाता है तब "प्रेम" की फुनगी , फूटती है अंग -अंग से !!! Author: Neelu…

Review Overview

User Rating: Be the first one !

One comment

  1. Abhishek Billore

    Neelu ji bahut sundar aur behatreen rachna hetu badhayi….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Translate »