एक छोटा सा बच्चा अपनी स्वर्गीय माँ से कहता हुआ

कहाँ जा रही हो छोड़ कर राह मेँ मुझे इस तरह माँ
अभी तक तो मैँने चलना भी नही सीखा
अरे मुरझाया हुआ फूल हूँ मै तो
अभी तक तो मैँने खिलना भी नही सीखा
खेल खेल मेँ गिर जाऊ तो कौन साहारा देगा मुझे
मैने तो अभी उछलना भी नही सीखा
चल दी हो तुम कहाँ अकेला कर के मुझे
घर से अकेला अभी तक निकलना भी नही सीखा
कौन पोछेगा मेरे आँसू जब भी तेरी याद मेँ रोया तो
अभी तक तो मैने सम्भलना भी नही सीखा
देगा कौन अपने आँचल की छाँव इस तपती धूप मेँ तेरे सिवा
अभी तक तो मैने जलना भी नही सीखा.

: यह भी पढ़े :

हम रीते ही मर जाएंगे…

युद्ध की आहट पर पनपता है प्रेमविदा होते हुए प्रेमीशिद्दत से चूमते हैं एक-दूसरे कोऔर …

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Translate »