एक तिलिस्म : चायवाले से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

Indore Dil Se - News“प्रकाश हिन्दुस्तानी” यह नाम स्वयं ही एक ब्रांड है। अपने लेखन के चलते पत्रकारिता जगत में बहुचर्चित प्रकाश हिन्दुस्तानी का नाम व चेहरा हर पाठक पहचानता है, उनके बारे में जितनी अधिक बात की जाये, उतनी कम ही रहेगी, इसलिए पिछले दिनों उनके द्वारा लिखी गई पुस्तक की ही बात करते हैं। “चायवाले से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक तिलिस्म” नाम की यह पुस्तक मोदी के उस असंभव कार्य का पत्रकारीय दस्तावेज है, जो उन्होंने संभव कर दिखाया। बचपन में चाय बेचने से लेकर स्वयंसेवक संघ कार्यकर्ता और मुख्यमंत्री से प्रधानमंत्री पद तक नरेन्द्र मोदी का जीवन संघर्ष से परिपूर्ण रहा। यह पुस्तक बाजार में आते ही चर्चा में आ गई और अब लोकप्रियता के शिखर की ओर लगातार अग्रसर है।

भरोसा नहीं था कि नरेन्द्र मोदी ऐसे जीतेंगे. अनुमान ग़लत निकले. चुनाव नतीजों के बाद केस स्टडी की कि मोदी शीर्ष पर कैसे पहुँचे? यह तिलिस्म कैसे रचा गया? क्या रणनीति रही? मार्केंटिग के फंडे क्या थे? मीडिया मैनेजमेंट कितना रहा? सोशल मीडिया को किस तरह उपयोग में लाया गया? कैसी भाषा बोली गयी? यूपी-बिहार कैसे फ़तह किया? यह चुनाव था या फिर युद्ध? सारी बातें पिरोकर रखी तो किताब बन गयी.
एक साधारण घर में जन्मे और बचपन में चाय बेचने वाले ने जो काम कर दिखाया, वह न केवल कड़ी मेहनत का नतीजा है, बल्कि सही रणनीति, मीडिया मैनेजमेंट, सोशल एक्टिविज्म, वाकपटुता, भाषण देने की कला, सादगी, भविष्य की योजनाओं का सही-सही निर्धारण, सही टीम का चयन आदि खूबियों का समन्वय है। प्रकाश हिन्दुस्तानी ने इस पुस्तक को लिखने के लिए नरेन्द्र मोदी की वेबसाइट, ब्लॉग, सोशल मीडिया, टीवी न्यूज चैनल, अखबार आदि की मदद ली है।

किताब का मुखपृष्ठ आकर्षक है। इसके मुखपृष्ठ पर मोदी की तस्वीर के साथ पीछे भारतीय लोकतंत्र का मंदिर संसद भवन दिखाया गया है। अंतिम पृष्ठ पर मोदी की वह तस्वीर नजर आती है जिसमें 20 मई 2014 को पहली बार जब वे संसद भवन पहुंचे तो संसद की सीढ़ियों पर दंडवत प्रणाम करते हुए नजर आते हैं। इसी पृष्ठ पर प्रकाश हिन्दुस्तानी का परिचय और फोटो भी प्रकाशित किया गया है।

किताब की शुरुआत प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के कुछ खास वाक्यों से होती है।‍ फिर किताब की भूमिका में हिन्दुस्तानीजी लिखते हैं कि देश में दो ही तरह के लोग हैं- नरेन्द्र मोदी के समर्थक या उनके विरोधी। अंत में वे लिखते हैं कि यह नरेन्द्र मोदी की जीवनी नहीं है, बल्कि यह जानने की कोशिश है कि आखिर सत्ता के शीर्ष तक वे कैसे पहुंचे?

Indore Dil Se - Newsइसे किताब की खासियत कहें या कमी कि इसमें लेखों का अनुक्रम नहीं है। सीधे शुरुआत होती है : अच्छे दिन कैसे आए। इसके बाद क्रमश: जीत के बाद पहला भाषण, गुजरात के सीईओ से देश के पीएम तक, नरेन्द्र मोदी के मार्केटिंग फंडे, हर हमले का करारा जवाब, चुनावी रणनीति, ऐतिहासिक प्रचार अभियान और अथक परिश्रम, युवाओं पर अधिक ध्यान, स्थानीय मुद्दों को महत्व, इस तरह फतह किए यूपी-बिहार, आधुनिक टेक्नोलॉजी का प्रयोग, दस खास बातें, ऐसे जोड़ा कुनबा, नरेन्द्र मोदी का गोवा में ऐतिहासिक भाषण, यूपी फतह की शुरुआत गोरखपुर के इस भाषण से, टीवी चैनलों पर छाए रहे मोदी, दुनियाभर से मिली बधाइयां, मोदी के लिए गढ़ी गई नई शब्दावली और अंत में 6-7 पेजों पर हिन्दी, अंग्रेजी और गुजराती अखबारों की वे कटिंग जिसमें मोदी युग का प्रारंभ, अच्छे दिन आ गए हैं, मोदी सुनामी आ गई, नमो हिन्दुस्तान जैसे हेडिंग हैं।

यह बहुत ‍अच्‍छा है कि किताब के हर पन्ने के सबसे ऊपर नरेन्द्र मोदी के भाषणों से उद्धृत महत्वपूर्ण वाक्य लिखे गए हैं जिसे आप मोदी महामंत्र मान सकते हैं। कुल मिलाकर यह किताब मोदी के चुनावी अभियान, इंटरव्यू, रैली, भाषणों, चुनावी रणनीति, ट्विटर व फेसबुक पर किए ‍गए ट्वीट और प्रचार, नेताओं के जुबानी हमले का जवाब और मोदी की सोच और इरादे का दिलचस्प दस्तावेज है।

निश्‍चित ही इस किताब को पढ़कर हर व्यक्ति को यह ‍प्रेरणा मिलेगी कि कोई-सा भी कार्य या अभियान कैसे संचालित किया जाता है और कैसे उसे सफलता की ऊंचाइयों तक पहुंचाया जा सकता है। मैनेजमेंट और मार्केटिंग के अलावा जो राजनीति में दखल रखते हैं उनके लिए यह किताब प्रेरणादाय‍क सिद्ध हो सकती है। यह किताब एक ऐसे व्यक्ति के संघर्ष का लेखा-जोखा है, जो पार्टी के भीतर और बाहर तमाम तरह के भारी विरोध को अंगूठा दिखाकर भारत के शीर्ष पद पर आसीन हो गया, कई विरोधियों का तो पत्ता ही साफ हो गया। निश्चित ही इस व्यक्ति में कुछ तो बात है कि अब विरोधी ‘नमो’, ‘नमो’ जपने लगे हैं।

"प्रकाश हिन्दुस्तानी" यह नाम स्वयं ही एक ब्रांड है। अपने लेखन के चलते पत्रकारिता जगत में बहुचर्चित प्रकाश हिन्दुस्तानी का नाम व चेहरा हर पाठक पहचानता है, उनके बारे में जितनी अधिक बात की जाये, उतनी कम ही रहेगी, इसलिए पिछले दिनों उनके द्वारा लिखी गई पुस्तक की ही बात करते हैं। “चायवाले से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक तिलिस्म” नाम की यह पुस्तक मोदी के उस असंभव कार्य का पत्रकारीय दस्तावेज है, जो उन्होंने संभव कर दिखाया। बचपन में चाय बेचने से लेकर स्वयंसेवक संघ कार्यकर्ता और मुख्यमंत्री से प्रधानमंत्री पद तक नरेन्द्र मोदी का जीवन संघर्ष से परिपूर्ण रहा।…

Review Overview

User Rating: 4.85 ( 1 votes)

One comment

  1. एक किताब के तीन साल : नरेन्द्र मोदी ने 26 मई 2014 को प्रधानमंत्री पद की शपथ ली थी, लेकिन उसके एक दिन पहले ही 25 मई 2014 को इंदौर प्रेस क्लब में नरेन्द्र मोदी की चुनावी रणनीति पर ‘चायवाले से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी – एक तिलिस्म’ किताब का विमोचन हो चुका था। बाद में नरेन्द्र मोदी पर 450 से अधिक किताबें केवल हिन्दी में प्रकाशित हुई, जिसमें ‘चायवाले से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी – एक तिलिस्म’ अव्वल रही।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Translate »