जीएसटी से छोटे व्यापारियों की परेशानी बढ़ेगी

देश के बाजार में विभिन्न प्रकार की कर प्रणाली में एकरूपता लाने के नजरिए से 1 जुलाई 2017 से ‘वस्तु एवं सेवा यानी जीएसटी प्रणाली लागू होने जा रही है। किंतु जीएसटी के जो कर प्रावधान देखने में आ रहे हैं, उन्हें देखने से पता चलता है कि षून्य समेत चार प्रकार की अन्य दरें भी प्रस्तावित की गई हैं। जबकि उन देषों में यह विसंगति देखने में नहीं आती है जिन 140 देषों में जीएसटी अथवा वैट प्रणाली लागू है। इसलिए ऐसा माना जा रहा है कि वे सभी छोटे, मध्यम एवं मझोले कारोबारी प्रभावित होंगे जो नगद लेन देन के जरिए अपना कारोबार चलाते हैं। इन उद्योगों की संख्या करीब 5 करोड़ है। नगद लेन देन के कारण फिलहाल इन व्यापारियों को अपनी सुविधानुसार बिक्री दिखाने की छूट है। जीएसटी में ऐसा करना मुष्किल होगा। अभी देष की जीडीपी में लघु उद्योगों का योगदान 30 और निर्यात में 45 फीसदी है। इन उद्योगों से करीब 11 करोड़ लोगों की रोजी-रोटी चलती है। इनमें से ज्यादातर कारोबारी निरक्षर होने के साथ कंप्युटर साक्षरता से भी अनजान हैं, जबकि जीएसटी का पूरा काम ऑनलाइन होना है। जाहिर है, मुष्किल तो आनी ही है। षायद इसीलिए अर्थषास्त्री सुब्रमण्यम स्वामी ने जीएसटी को भाजपा के लिए वाटर लू बताया है।

लघु उद्योग मुख्य रूप से कपड़ा, कांच के चूड़ी और बर्तन, धातु की मूर्तियां व खिलौने, लकड़ी का सामान, कागज और कई प्रकार की खाद्य सामग्रियों का निर्माण व विक्रय करते हैं। इन वस्तुओं के निर्माण में बड़ी संख्या में आदिवासी समाज लगा हुआ है। ये लोग ज्ञान परंपरा से अपना काम सीखते है। वर्तमान में लघु उद्योगों को 1.5 करोड़ रुपए तक के उत्पादन पर उत्पाद षुल्क की छूट मिल रही है। जीएसटी लघु होने पर यह छूट समाप्त हो जाएगी। ज्यादातर लघु उद्यमी कर चुकाने वाली संस्थाओं में पंजीकृत भी नहीं हैं। किंतु अब जिन कारोबारियों का वार्शिक लेन-देन 20 लाख से ऊपर होगा तो जीएसटी पंजीकरण कराना जरूरी होगा। यह पंजीकरण राज्य जीएसटी और यदि आप एक प्रांत के बाहर अपना उत्पादन बेचते हैं तो केंद्रीय जीएसटी कार्यालय में भी पंजीकरण कराना होगा। यदि कोई कारोबारी एक राज्य से अधिक में व्यापार करता है तो उसे वार्शिक आय 20 लाख रुपए से कम होने पर भी पंजीयन कराना जरूरी होगा।

पंजीयन होने के बाद हर व्यापारी को प्रतिमाह तीन मर्तबा अपने कारोबार का लेखा-जोखा जीएसटी कार्यालय में प्रस्तुत करना होगा। इस तरह से 1 साल में 36 बार रिटर्न फाइल करने के साथ एक बार साल का पूरा लेखा-जोखा भी पेष करना होगा। इस तरह से एक साल में 37 रिटर्न भरने होंगे। फिलहाल साल में केवल 4 बार रिटर्न दाखिल करना होता है। अब व्यापारियों को कारोबार की प्रकृति के हिसाब से कोड दिए जाएंगे। अभी तक सभी प्रकार के रिटर्न के लिए केवल 5 पृश्ठों में जानकारी भरनी होती थी, किंतु अब 36 पेजों में जानकारी भरनी होंगी, वह भी ऑनलाइन। साफ है, छोटे से छोटे कारोबारी को कंप्युटर और नेट सुविधा लेनी होगी। इसे संचालित करने के लिए कंप्युटर ऑपरेटर और चार्टर लेखाकार की भी सेवाएं लेनी होंगी। छोटे व्यापारी के लिए इनका खर्च झेलना मुष्किल होगा। हालांकि जिन देषों में जीएसटी लागू है, वहां लघु उद्यमियों को कर छूट मिली हुई है। यदि इन व्यापारियों को छूट नहीं मिली तो इनका कारोबार चोपट होना तय है।

दावा तो यह किया जा रहा है कि जीएसटी लागू होने से वस्तुओं पर कम कर लगेगा और चीजें सस्ती होंगी। लेकिन यदि वस्त्रों पर 5 प्रतिषत कर लगा देने से ही मूल्यों में 6 से 7 प्रतिषत तक की वृद्धि हो जाएगी। 1000 के कपड़े पर 50 से 60 रुपए तक कर देना होगा। कपड़े के व्यापार से बड़ी संख्या में लघु और मझौले कारोबारी जुड़े हुए है। इन व्यापारियों को अब अपना बहीखाता दुरुस्त रखने के लिए सीए और कंप्युटर ऑपरेटर की सेवाओं का खर्च उठाना अनिवार्य हो जाएगा। कस्बों व ग्रामों में व्यापार करने वाले कारोबारियों की परेषानियां अधिक बढ़ जाएंगी। खादी के कपड़ों और रेडिमेड वस्त्रों पर भी कर लगेगा। कपड़े पर फिलहाल महज 1 प्रतिषत प्रवेष कर था, इसके अलावा अन्य कोई कर नहीं था। किंतु अब उत्पाद कर तथा जीएसटी कर लगेंगे। जो कि 6 से 7 प्रतिषत तक होंगे।

ग्रामीण क्षेत्र के ज्यादातर व्यापारी बिना पढ़े-लिखे हैं। यह जानते हुए भी जीएसटी प्रणाली में जो व्यापार प्रक्रिया अपनाई गई है, उसका पालन करना कस्बाई व्यापारी के लिए आसान नहीं है। ज्यादा सख्ती की गई तो कई व्यापारी काम बंद करने का भी फैसला ले सकते हैं। कस्बाई व्यापारी से सीए की फीस और कंप्युटर ऑपरेटर का वेतन देने की उम्मीद करना बेमानी है। जीएसटी लागू होने पर सराफा बाजार के छोटे एवं मघ्यम वर्ग के व्यापारी भी प्रभावित होंगे। अभी तक इस र्व्यवसाय में कम पढ़े-लिखे व्यक्ति को ज्ञान-परंपरा से हुनर सीखने और गहने बनाकर बेचने की सुविधा थी। किंतु अब जीएसटी के दायरे में आ जाने के कारण सोने पर 3 प्रतिषत कर लगेगा। साथ ही कंप्युटर पर बिल बनाना अनिवार्य होगा। साफ है, इन व्यापारियों को भी कंप्युटर, इंटरनेट सुविधा और और आपरेटर रखने होंगे। सीए की सलाह भी जरूरी होगी। इसी तरह अगरबत्ती और धूपबत्ती निर्माताओं पर 12 प्रतिषत जीएसटी लगेगा। जूते-चप्पलों पर 5 से 18 प्रतिषत कर व्यवस्था तय की गई है। प्रादेषिक सिनेमा, चमड़ा और छपी हुई पुस्तकों पर भी 28 प्रतिषत जीएसटी लगाई गई है। जबकि अबतक हाथ से बनी चमड़े की वस्तुओं और पुस्तकों पर किसी प्रकार का कर नहीं लगता था। इन सभी व्यवसायों से लघु उद्यमी जुड़े हैं। इन कठोर नियमों को लागू करने से ऐसा लग रहा है कि केंद्र सरकार ने जैसे छोटे व्यापारियों को खत्म करने की नीति ही बना दी है। यदि ये व्यापारी परेषान हुए तो भविश्य में आंदोलित भी हो सकते है।

जीएसटी में ई-बे बिल को लागू करना सबसे बड़ी बाधा है। इसके लिए इनवॉयस अपलोड करने के बाद भी ई-बे बिल जेनरेट करना पड़ेगा। यह तरीका जटिल तो है ही हरेक व्यापारी को इंटरनेट सुविधा हासिल करना भी जरूरी हो जाएगी। यातायात कारोबारियों के लिए ई-तकनीक पर निर्भरता बहुत ज्यादा बढ़ जाएगी। इस कारण छोटे ट्रांसपोटर्स परेषानी में आएंगे। इस यातायात उद्योग ने केंद्र सरकार को अपनी आपत्तियां भी दर्ज कराई हैं। बावजूद सरकार यातायात कारोबारियों के लिए जीएसटी व्यवस्था को बाध्यकारी बना रही है। जीएसटी कानून में विभिन्न अपराधों के तहत 21 तरह की सजा के प्रावधान हैं। कम कर जमा करने पर कम से कम 10,000 रुपए का जुर्माना देना होगा। कर में जो रकम छुपाई गई है, उस पर भी 10 प्रतिषत के बराबर अतिक्ति जुर्माना देना होगा। इस लिहाज से जीएसटी को ठीक से समझने के लिए उद्योग चेंबर एसोचैंप ने केंद्र सरकार से मांग की है कि यदि 1 जुलाई 2017 से जीएसटी लागू कर ही दी जाती है तो कम से कम 6 महीने के लिए जुर्माने और सजा के प्रावधानों को लागू नहीं किया जाए। किंतु सरकार ने अभी तक इस मांग पर कोई विचार नहीं किया है।

षायद इसीलिए सलाहकार फर्म डन एंड ब्रैडस्ट्रीट ने कहा है कि जीएसटी से कुछ समय के लिए मुष्किलें आएंगी और कंपनियों का व्यापार घट सकता है। अर्थषास्त्री अरुण सिंह ने कहा है कि इस नई कर व्यवस्था से विनिर्माण और सेवा क्षेत्रों में दिक्कतें आएंगी। उन्हें सामान्य होने में लंबा वक्त लगेगा। इससे जीडीपी दर भी प्रभावित होगी। षायद इसीलिए भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा है कि जीएसटी 2019 के आम चुनाव के बाद लागू की जाए। अन्यथा भाजपा को यह वाटर लू साबित हो सकती है। अर्थात भाजपा 2019 को लोकसभा चुनाव हार भी सकती है। किंतु इन सब चेतावनियों के बावजूद सरकार की चिंता दिखाई नहीं दे रही है।

Indore Dil Se - Articalप्रमोद भार्गव
वरिष्ठ साहित्यकार और पत्रकार
शब्दार्थ 49, श्रीराम कॉलोनी
शिवपुरी, म.प्र.
मो. 09425488224
फोन 07492 232007

देश के बाजार में विभिन्न प्रकार की कर प्रणाली में एकरूपता लाने के नजरिए से 1 जुलाई 2017 से ‘वस्तु एवं सेवा यानी जीएसटी प्रणाली लागू होने जा रही है। किंतु जीएसटी के जो कर प्रावधान देखने में आ रहे हैं, उन्हें देखने से पता चलता है कि षून्य समेत चार प्रकार की अन्य दरें भी प्रस्तावित की गई हैं। जबकि उन देषों में यह विसंगति देखने में नहीं आती है जिन 140 देषों में जीएसटी अथवा वैट प्रणाली लागू है। इसलिए ऐसा माना जा रहा है कि वे सभी छोटे, मध्यम एवं मझोले कारोबारी प्रभावित होंगे जो नगद लेन…

Review Overview

User Rating: Be the first one !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Translate »