दिल्ली तक बुलवाओगे

क्या भारत माँ की छाती पर चीनी झंडा लहराओगे.
वो घर मे घुसकर बैठे हैं क्या दिल्ली तक बुलवाओगे.

कद भी जिनका छोटा है अपने जवान की छाती से.
बैठे हैं यहाँ तंबू गाड़े वो बिन बुलाये बाराती से.
उनके शिकारी कुत्ते भी अपनी सीमा पर भोंक रहे.
भारत भूमि को भारत का वो अब कहने से रोक रहे.
हिन्दी चीनी भाई-भाई वो कहकर बस छलते रहे.
मगर तरक्की से अपनी वो मन ही मन जलते रहे.
वो उनका घटिया माल हमारे बाज़ारो मे खपा दिया.
हुई थी संधि मगर क्यों बार बार यूँ दगा दिया.
उन छलियो की नीति से कब तक धोखा खाओगे.
वो घर मे घुसकर बैठे हैं क्या दिल्ली तक बुलवाओगे.

नापाक पाक की हरकत पे जो आग उगला करते थे.
जिनकी ज़ुबाँ से शब्दो के वो शोले निकला करते थे.
डर से शक्तिशाली के वो सारे धाकड़ बैठ गये.
आग उगलने वाले मुँह मे दही जमाकर बैठ गये.
कोयला दलाली से उपजा जब रगो मे पानी बहता है.
तब देसी घी की ताक़त को चाऊमिन चुनौती देता है.
उठो यदि तुम मे भारत की सच्ची आत्मा बसती है.
हां अस्मिता है अपनी भूमि नहीं वो इतनी सस्ती है.
अहिंसक और नपुंसक में अंतर कब समझोगे समझाओगे.
वो घर मे घुसकर बैठे हैं क्या दिल्ली तक बुलवाओगे.

Author: Atul Jain Surana (अतुल जैन सुराना)

क्या भारत माँ की छाती पर चीनी झंडा लहराओगे. वो घर मे घुसकर बैठे हैं क्या दिल्ली तक बुलवाओगे. कद भी जिनका छोटा है अपने जवान की छाती से. बैठे हैं यहाँ तंबू गाड़े वो बिन बुलाये बाराती से. उनके शिकारी कुत्ते भी अपनी सीमा पर भोंक रहे. भारत भूमि को भारत का वो अब कहने से रोक रहे. हिन्दी चीनी भाई-भाई वो कहकर बस छलते रहे. मगर तरक्की से अपनी वो मन ही मन जलते रहे. वो उनका घटिया माल हमारे बाज़ारो मे खपा दिया. हुई थी संधि मगर क्यों बार बार यूँ दगा दिया. उन छलियो की नीति…

Review Overview

1 (Poor)
1.5 (Below average)
2 (Average)
2.5 (Above average)
3 (Watchable)
3.5 (Good)
4 (Very good)
4.5 (Very good +)
5 (Outstanding)

Post your Rating

User Rating: Be the first one !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Translate »