नारी के अनेक रूप

लडकियाँ यदि बहन है तो शुचिता की दर्पण है ||
लडकी यदि पत्नी है तो खुद का समर्पण है ||
लडकी अगर भाभी है तो भावना का भंडार है ||
लड़की मामी मौसी बुआ है तो स्नेह का सत्कार है ||
लडकी यदि काकी है तो कर्तव्य की साधना है ||
लडकी अगर साथी है तो सुख की शतत संभावना है ||
लडकी यादि माँ है तो परमात्मा का स्वारूप है||

Author: Govind Gupta (गोविंद गुप्ता)

लडकियाँ यदि बहन है तो शुचिता की दर्पण है || लडकी यदि पत्नी है तो खुद का समर्पण है || लडकी अगर भाभी है तो भावना का भंडार है || लड़की मामी मौसी बुआ है तो स्नेह का सत्कार है || लडकी यदि काकी है तो कर्तव्य की साधना है || लडकी अगर साथी है तो सुख की शतत संभावना है || लडकी यादि माँ है तो परमात्मा का स्वारूप है|| Author: Govind Gupta (गोविंद गुप्ता)

Review Overview

1 (Poor)
1.5 (Below average)
2 (Average)
2.5 (Above average)
3 (Watchable)
3.5 (Good)
4 (Very good)
4.5 (Very good +)
5 (Outstanding)

Post your Rating

User Rating: Be the first one !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Translate »