निगरानी के लिये स्वच्छ इंदौर नाम से मोबाइल एप

इंदौर (IDS-PRO) इंदौर नगर निगम क्षेत्र में साफ-सफाई तथा कचरा उठाने के कार्य को और अधिक व्यवस्थित तथा प्रभावी बनाया जा रहा है। नगर निगम सीमा क्षेत्र में अब कचरा उठायी, कचरा के परिवहन तथा उसके तुलाई कार्य की निगरानी जी.पी.एस.के माध्यम से की जाएगी। यह कार्य आम नागरिक भी नगर निगम की वेबसाईट पर लाईव स्ट्रीम के माध्यम से देख सकेंगे। साफ-सफाई कार्य एवं कचरा उठाने के कार्य की देखरेख के लिये सभी दरोगाओं को स्मार्ट मोबाइल फोन भी दिये जायेंगे। नगर निगम सीमा क्षेत्र में खाली पड़े प्लाटों पर फेंसिंग या बाउण्ड्रीवाल नहीं बनाने वालों के विरूद्ध एफआईआर दर्ज करायी जायेगी।

यह जानकारी आज यहां कलेक्टर श्री आकाश त्रिपाठी द्वारा ली गयी साफ-सफाई कार्य की समीक्षा बैठक में दी गयी। बैठक में जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी एवं अपर कलेक्टर श्री आशीष सिंह, नगर निगम आयुक्त श्री राकेश सिंह, अपर कलेक्टरद्वय श्री दिलीप कुमार तथा श्री सुधीर कुमार कोचर सहित एसडीएम एवं नगर निगम के अधिकारी मौजूद थे। बैठक में कलेक्टर श्री त्रिपाठी ने इंदौर नगर निगम सीमा क्षेत्र में चल रहे साफ-सफाई कार्य एवं कचरा उठाने के कार्य की विस्तार से समीक्षा की। बैठक में बताया गया कि अब साफ-सफाई तथा कचरा उठाने के कार्य, कचरा के परिवहन आदि कार्य की निगरानी जी.पी.एस. के माध्यम से की जायेगी। इसके लिये दरोगाओं को स्मार्ट मोबाइल फोन भी दिये जायेंगे। सभी कचरा पेटियों एवं कचरा परिवहन करने वाले वाहनों पर एक दिसम्बर तक जीपीएस लगा दिया जाएगा। बताया गया कि अभी तक 300 से अधिक कचरा पेटियों में जी.पी.एस. लगाया जा चुका है। कचरा उठाने के कार्य की रिपोर्ट मिलना प्रारंभ हो गयी है। जी.पी.एस. लग जाने से ऑन लाईन कचरा उठाने के समय आदि की समीक्षा की जा सकेगी। लाईव स्ट्रीम के माध्यम से आम नागरिक भी नगर निगम की वेबसाइट से उक्त कार्य को कभी भी देख सकते हैं। जीपीएस से निगरानी के लिये स्वच्छ इंदौर नाम से मोबाइल एप बनाया गया है।

बैठक में बताया गया कि कचरा संग्रहण के लिये 800 नयी पेटियां खरीदी जाना थी। इसमें से अभी तक 300 नयी कचरा पेटियां आ चुकी हैं। कलेक्टर श्री त्रिपाठी ने निर्देश दिये कि शेष 500 नयी पेटियां 15 दिसम्बर तक प्राप्त कर ली जाएं। बैठक में बताया गया कि पुरानी कचरा पेटियों को उपयोगी बनाने के लिये उनका मरम्मत कार्य करवाया जा रहा है। लगभग 100 कचरा पेटियों की मरम्मत की जा चुकी है। 200 और पुरानी कचरा पेटियों को भी मरम्मत कर उन्हें उपयोग बनाया जाएगा।

खाली प्लाट पर फैंसिंग अथवा बाउण्डीवाल नहीं बनाने पर एफ.आई.आर. होगी
इंदौर नगर निगम सीमा क्षेत्र में खाली पड़े प्लाटों पर फैसिंग करने के संबंध में धारा 144 के अंतर्गत जारी किये गये प्रतिबंधात्मक आदेश का कड़ाई से पालन कराने के निर्देश दिये गये। बताया गया कि अभी तक 200 प्लाट मालिकों को इस संबंध में नोटिस दिये जा चुके हैं। प्रथम चरण में बड़े प्लाटों पर फैंसिंग अथवा बाउण्ड्रीवाल नहीं बनाने वालों के विरूद्ध एफ.आई.आर.दर्ज कराने के निर्देश कलेक्टर श्री त्रिपाठी ने दिये।

वैज्ञानिक पद्धति से होगी कुत्तों की गणना
बैठक में बताया गया कि नगर निगम द्वारा गली-मोहल्लों के अवारा कुत्तों की गणना का कार्य करवाया गया है। प्रारंभिक स्तर पर इस गणना में पता चला है कि शहर में करीब 30 हजार कुत्ते हैं। कलेक्टर श्री त्रिपाठी ने निर्देश दिये कि इन कुत्तों की गणना का कार्य वैज्ञानिक पद्धति से कराया जाए। बैठक में बताया गया कि कुत्तों की नसबंदी का कार्य भी जारी है। अभी प्रतिदिन 45 से 50 कुत्तों को प्रतिदिन नसबंदी की जा रही है।

इंदौर (IDS-PRO) इंदौर नगर निगम क्षेत्र में साफ-सफाई तथा कचरा उठाने के कार्य को और अधिक व्यवस्थित तथा प्रभावी बनाया जा रहा है। नगर निगम सीमा क्षेत्र में अब कचरा उठायी, कचरा के परिवहन तथा उसके तुलाई कार्य की निगरानी जी.पी.एस.के माध्यम से की जाएगी। यह कार्य आम नागरिक भी नगर निगम की वेबसाईट पर लाईव स्ट्रीम के माध्यम से देख सकेंगे। साफ-सफाई कार्य एवं कचरा उठाने के कार्य की देखरेख के लिये सभी दरोगाओं को स्मार्ट मोबाइल फोन भी दिये जायेंगे। नगर निगम सीमा क्षेत्र में खाली पड़े प्लाटों पर फेंसिंग या बाउण्ड्रीवाल नहीं बनाने वालों के विरूद्ध एफआईआर दर्ज करायी…

Review Overview

User Rating: Be the first one !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Translate »