फिर याद आ गए तुम

तारों के झिलमिलाते आँगन में
अम्बर के अंतहीन ह्रदय में अंकित
पूर्णिमा का चाँद देखते ही
एक बार फिर
याद आ गए तुम —-
युगल पंछियों का
नीड़ की ओर बढ़ना
देख धरा की प्यास
श्यामल पावसों का उमड़ना
मुखरित हुआ अनूठा एहसास
प्रतीक्षारत साँझ में
एक बार फिर
याद आ गए तुम —-
चाँद की लरजती खूबसूरती में
मुग्ध तारों का मौन हो जाना
आकाश की स्तब्ध नीरवता में
एक बार फिर
याद आ गए तुम —-

Author: Jyotsna Saxena (ज्योत्सना सक्सेना)

Review Overview

User Rating: Be the first one !

: यह भी पढ़े :

हम रीते ही मर जाएंगे…

युद्ध की आहट पर पनपता है प्रेमविदा होते हुए प्रेमीशिद्दत से चूमते हैं एक-दूसरे कोऔर …

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Translate »