बाल अधिकारों पर बच्चों की कार्यशाला संपन्न

शिवपुरी (IDS-PRO) जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की अध्यक्ष श्रीमती अंजुली पालो के मार्गदर्शन में आज स्थानीय विद्यालय सेन्ट्रो काॅन्वेंट हाई स्कूल गौतम बिहार में बाल अधिकारों पर कार्यशाला का आयोजन व्यवहार न्यायाधीश वर्ग-2 श्री मयंक मोदी ने उपस्थित बच्चों को संबोधित करते हुए घरेलू हिंसा व लैंगिक अपराधों से बच्चों के संरक्षण पर विस्तार से समझाया एवं बच्चों को यह भी बताया कि वह किस प्रकार से पढ़ना, लिखना एवं अच्छे संस्कार सीख सकते हैं और उनसे किसी भी प्रकार की मजदूरी या अन्य आय संबंधित कार्य करवाना कानूनन अपराध है।

न्यायाधीश श्री मयंक मोदी ने बताया कि बच्चों को माता-पिता या स्कूल शिक्षक बिना वजह मारपीट नहीं कर सकते है। इस दौरान बच्चों ने अपने प्रश्न रखे जिनका भी श्री मोदी ने संतोप्रद उत्तर देकर उनकी जिज्ञासाओं का समाधान किया। जिला बाल कल्याण समिति के अध्यक्ष श्री जितेन्द्र जैन ने बच्चों के बाल अधिकार संरक्षण अधिनियम के तहत अनेक जानकारियों से अवगत कराया। साथ ही यदि कोई बच्चा विपरीत परिस्थितियों में कहीं भी अपराध ग्रसित होता है तो वह चाइल्ड हैल्प लाइन नम्बर का उपयोग कर मदद प्राप्त कर सकता है।

इसके उपरांत बरैया कृषि वागवानी एवं जन कल्याण समिति के सचिव समाज सेवी श्री विनोद जैन द्वारा बच्चों को बताया कि शासन द्वारा उनकी शिक्षा एवं भरण पोषण अधिकार की व्यवस्था कानून द्वारा की गई है, जिसका लाभ लेकर बच्चे अपना भविष्य बना सकते हैं एवं आर्थिक अभाव की वजह से शिक्षा एवं कैरियर बनाने से वंचित नहीं रह सकते हैं।

कार्यक्रम में करीब एक सैकड़ा से अधिक बच्चों ने भाग लिया एवं कार्यक्रम में इस अवसर पर म.प्र.राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा प्रकाशित पुस्तक का वितरण बच्चों को किया गया जिसमें संविधान एवं हमारे राष्ट्रीय ध्वज तथा राष्ट्रीय गान मुद्रण था, बच्चें पुस्तिका को पाकर काफी प्रसन्न हुए। कार्यक्रम में स्कूल स्टाफ एवं गणमान्य नागरिक उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन श्री अरविंद कुशवाह जिला विधिक सेवा प्राधिकरण शिवपुरी द्वारा किया। अंत में आभार प्रदर्शन श्री जितेन्द्र कुमार जैन ने व्यक्त किया।

शिवपुरी (IDS-PRO) जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की अध्यक्ष श्रीमती अंजुली पालो के मार्गदर्शन में आज स्थानीय विद्यालय सेन्ट्रो काॅन्वेंट हाई स्कूल गौतम बिहार में बाल अधिकारों पर कार्यशाला का आयोजन व्यवहार न्यायाधीश वर्ग-2 श्री मयंक मोदी ने उपस्थित बच्चों को संबोधित करते हुए घरेलू हिंसा व लैंगिक अपराधों से बच्चों के संरक्षण पर विस्तार से समझाया एवं बच्चों को यह भी बताया कि वह किस प्रकार से पढ़ना, लिखना एवं अच्छे संस्कार सीख सकते हैं और उनसे किसी भी प्रकार की मजदूरी या अन्य आय संबंधित कार्य करवाना कानूनन अपराध है। न्यायाधीश श्री मयंक मोदी ने बताया कि बच्चों को माता-पिता या…

Review Overview

User Rating: Be the first one !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Translate »