Indore DIl Se - News

बाल विवाह की रोकथाम हेतु जिला प्रशासन दृढ़ संकल्पित

इंदौर (आई.डी.एस.) जिले में अक्षय तृतीया के अवसर पर बाल विवाह की रोकथाम हेतु जिला प्रशासन दृढ़ संकल्पित है। कलेक्टर श्री पी.नरहरि के निर्देश पर महिला सशक्तिकरण विभाग द्वारा जिले में विभागीय अधिकारियों के 9 दल गठित किये गये हैं। यह दल बाल विवाह की सूचना मिलने पर तत्परतापूर्वक कार्यवाही करेंगे।

जिला महिला सशक्तिकरण अधिकारी श्री के.सी.पाण्डे ने बताया कि शहरी क्षेत्र के लिये तीन तथा ग्रामीण क्षेत्रों के लिये 6 दल बनाये गये हैं। उन्होंने बताया कि शहरी क्षेत्र में गठित दलों में प्रथम दल की प्रभारी श्रीमती अनिता साहू मोबाइल नम्बर 9589197244 को बनाया गया है। द्वितीय दल के प्रभारी श्री भगवानदास साहू मोबाइल नम्बर 93297-56455, तृतीय दल के प्रभारी श्री अविनाश यादव मोबाइल नम्बर 99934-94572 होंगे। ग्रामीण क्षेत्र के लिये परियोजना अधिकारी इंदौर-6 सुश्री चित्रा यादव मोबाइल नम्बर 94250-77338, परियोजना अधिकारी इंदौर-3 श्री रवि शर्मा मोबाइल नम्बर 94250-33662, विकासखंड महिला सशक्तिकरण अधिकारी सुश्री इंदु पाण्डे मोबाइल नम्बर 9827442433, परियोजना अधिकारी महू श्री सुशील कुमार चक्रवर्ती मोबाइल नम्बर 94253-18633, विकासखंड महिला सशक्तिकरण अधिकारी सांवेर श्रीमती वंचना सिंह परिहार मोबाइल नम्बर 99934-87395, विकासखण्ड महिला सशक्तिकरण अधिकारी मोबाइल नम्बर 94243-43244 शामिल हैं।

श्री पाण्डे ने बताया कि बाल विवाह की शिकायत के संबंध में उक्त अधिकारियों से सम्पर्क किया जा सकता है। जिला महिला सशक्तिकरण कार्यालय, प्रभु नगर, बैंक ऑफ बड़ौदा के ऊपर, अन्नपूर्णा रोड इंदौर में कन्ट्रोल रूम स्थापित किया गया है। कन्ट्रोल रूम में भी बाल विवाह की शिकायत के संबंध में सम्पर्क किया जा सकता है। विदित है कि अक्षय तृतीया के अवसर पर विभिन्न समुदायों द्वारा विवाह एवं सामूहिक विवाह कार्यक्रम आयोजित किये जाते हैं। इन कार्यक्रमों में बाल विवाह होने की संभावना रहती है। इसी को दृष्टिगत रखते हुये कलेक्टर श्री पी.नरहरि के आदेशानुसार 29 अप्रैल, 2017 को अक्षय तृतीय के अवसर पर बाल विवाह की रोकथाम हेतु इंदौर जिले में अधिकारियों के नौ दलों का गठन किया गया।

Review Overview

User Rating: Be the first one !

: यह भी पढ़े :

मध्यप्रदेश को मिले 8 राष्ट्रीय पर्यटन पुरस्कार

राष्ट्रीय पर्यटन पुरस्कार में छाया मध्यप्रदेश, मिले 8 पुरस्कार। स्वच्छता में लगातार पांच बार नंबर …

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Translate »