भारतीय कप्तान रवि शास्त्री की सेवा लेने का फैसला

मुंबई ( इंटरनेट डेस्क ) टेस्ट श्रृंखला में भारत के लचर प्रदर्शन के बाद बोर्ड पर ठोस कदम उठाने का दबाव था। बीसीसीआई ने इसके साथ ही पूर्व खिलाड़ियों संजय बांगड़ और भरत अरूण को सहायक कोच तथा आर श्रीधर को क्षेत्ररक्षक कोच नियुक्त करके टीम प्रबंधन में आमूलचूल बदलाव किया है। फ्लेचर टीम के मुख्य कोच बने रहेंगे और 25 अगस्त से शुरू हो रही एकदिवसीय श्रृंखला में शास्त्री निदेशक की भूमिका निभाएंगे।
यह पहला मौका नहीं है जब शास्त्री को नुकसान कम करने की कवायद के तहत टीम के साथ जोड़ा गया है। इससे पहले वेस्टइंडीज में 2007 विश्व कप में टीम के खराब प्रदर्शन के मद्देनजर कोच ग्रेग चैपल बख्रास्त किए जाने के बाद भी इस आलराउंडर को बांग्लादेश दौरे के लिए टीम का क्रिकेट मैनेजर नियुक्त किया गया था।
इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट श्रृंखला में भारत के लचर प्रदर्शन पर कार्रवाई करते हुए बीसीसीआई ने सभी पदाधिकारियों से चर्चा के बाद पूर्व भारतीय कप्तान रवि शास्त्री की सेवा लेने का फैसला किया है जो इंग्लैंड के खिलाफ आगामी एकदिवसीय मैचों में भारतीय क्रिकेट टीम का मार्गदर्शन करेंगे। विज्ञप्ति के अनुसार, डंकन फ्लेचर मुख्य कोच बने रहेंगे जबकि रवि शास्त्री भारतीय टीम से जुड़े क्रिकेट मामलों के ओवराल प्रभारी होंगे। सहायक स्टाफ में भारतीयों को जोड़ा गया है। किंग्स इलेवन पंजाब के मुख्य कोच बांगड़ और भारत के अंडर 19 कोच भरत अरूण तथा क्षेत्ररक्षण कोच आर श्रीधर को डावेस और पैनी की जगह नियुक्त किया गया है।
बीसीसीआई ने एकदिवसीय श्रंखला के लिए गेंदबाजी कोच जो डावेस और क्षेत्ररक्षक कोच ट्रेवर पैनी को ब्रेक दिया है और पूर्व भारतीय आलराउंडर संजय बांगड़ और पूर्व भारतीय तेज गेंदगाज भरत अरूण को टीम का सहायक कोच बनाया गया है। इसमें कहा गया कि आर श्रीधर एकदिवसीय श्रृंखला के लिए सहायक टीम से क्षेत्ररक्षण कोच के रूप में जुड़ेंगे। शास्त्री ने भारत की ओर से 80 टेस्ट और 150 वनडे मैच खेलने और इस दौरान क्रमश: 3830 और 3108 रन बनाए। उन्होंने टेस्ट मैचों में 151 जबकि वनडे में 129 विकेट भी चटकाए।
टेस्ट श्रृंखला में भारत की 1-3 की शिकस्त के बाद पूर्व क्रिकेटरों ने फ्लेचर को हटाए जाने की मांग करते हुए कहा था कि टीम में उनका कोई योगदान नहीं है। पूर्व खिलाड़ियों ने कप्तान महेंद्र सिंह धोनी की नेतृत्व क्षमता पर भी सवाल उठाए थे जिनका विदेशी सरजमीं पर रिकार्ड काफी खराब है। बीसीसीआई ने हालांकि फिलहाल धोनी पर कोई फैसला नहीं किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Translate »