मालवो म्हारो

मालवो म्हारो
है घणो प्यारो |
डग -डग नीर
पग-पग रोटी |
या वात वइगी
अब खोटी |
यां नी है मुरखां को टोटो |
यां को खांपो भी है
मगज में मोटो |
थ्री -इडियट सनिमो आयो
यां का खांपा,
मूरख अणे टेपा के भायो |
कदी कालिदास जिन्दो वेतो ,
तो ऊ घणो खुस वेतो |
जो मगज से काम नी करे ,
वुज मनक नयो कमाल करे |
अणि ती खंपाओ को
मान जागेगा,
खांपा, मुरख और टेपा
मालवा का नाम रोशन करेगा |

संजय जोशी “सजग”

Review Overview

User Rating: Be the first one !

: यह भी पढ़े :

हम रीते ही मर जाएंगे…

युद्ध की आहट पर पनपता है प्रेमविदा होते हुए प्रेमीशिद्दत से चूमते हैं एक-दूसरे कोऔर …

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Translate »