‘‘यह देश वीर जवानों का’’ गीत पर धूम उठे दर्शक

शिवपुरी (IDS-PRO) अमर शहीद तात्याटोपे के बलिदान दिवस पर आयोजित तीन दिवसीय तात्याटोपे समारोह के प्रथम दिन रात्रि में राग बैण्ड आरकेस्ट्रा जबलपुर के कलाकारों ने ‘‘आजादी के तराने’’ देश भक्ति गीतों की आकर्षक प्रस्तुतियां देकर अमर शहीदों को श्रृद्धांजलि दी। श्रोताओं ने देर रात तक देश भक्ति गीतों का लुप्त उठाया।

स्वराज संस्थान संचालनालय म.प्र. शासन संस्कृति विभाग एवं जिला प्रशासन के सहयोग से तात्याटोपे समाधि स्थल प्रांगण शिवपुरी में आयोजित तीन दिवसीय तात्याटोपे समारोह के दौरान आयोजित आजादी के तराने कार्यक्रम में विधायक श्री प्रहलाद भारती, नगर पालिका परिषद शिवपुरी के अध्यक्ष श्री मुन्नालाल कुशवाह सहित अधिकारीगण तथा श्रोताओं ने देर रात तक राष्ट्रभक्ति गीतों का आनंद लिया। राग बैण्ड आरकेस्ट्रा जबलपुर के कलाकारों श्री महेन्द्र राजपूत, सुश्री सुनिष्ठा, नीलेश यादव, रमेश कोली, प्रदीप परेल आदि ने वाद यंत्रों के साथ देशभक्ति से ओत-प्रोत गीतों की प्रस्तुति दी।

कलाकारों द्वारा प्रस्तुत देशभक्ति गीत ‘‘यह देश है वीर जवानों का, अलवेलों का, मस्तानों का मेरे देश के यारों क्या कहना’’ पर दर्शक झूम उठे। कलाकार महेन्द्र राजपूत ने ‘‘ऐ मेरे वतन, उजड़े चमन, तुझ पर दिल मेरा कुरवान है’’ गीत और ‘‘पीर जहां की रीत, सदा में गीत वहां के गाता हूं, भारत का रहने वाला हूं, भारत की बात बताता हूं, गीत पर खूब तालियां बटोरी। महिला गायिका सुश्री सुनिष्ठा ने अपनी प्रस्तुति देते हुए ‘‘मेरे वतन के लोगों, जरा आंख में भर लो पानी, जो शहीद हुए है उनकी, जरा याद करो कुरबानी, तुम खूब लगा लो नारे, कुछ याद उन्हें भी कर लो, जो लौट कर घर न आए’’ पर श्रोताओं ने खूब तालियां बजाई।

अखिल भारतीय कवि सम्मेलन 20 को
तात्याटोपे समारोह के तीसरे दिन शहीद मेले में 20 अप्रैल को रात्रि 7.30 बजे से स्थानीय कलाकारों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्तुति दी जाएगी। जबकि रात्रि 8 बजे से अखिल भारतीय कवि सम्मेलन का आयोजन होगा। जिसमें मुख्य रूप से देश के प्रसिद्ध कवि विनीत चैहान-अलवर, कमलेश शर्मा-इटावा, मुमताज़ नसीम- दिल्ली, अशोक भाटी-उज्जैन, शिवकुमार‘अर्चन’- भोपाल आदि कवि देशभक्ति पर केन्द्रित अपनी रचनाएं प्रस्तुत करेंगे।

Review Overview

User Rating: Be the first one !

: यह भी पढ़े :

Anant Chaturdashi 2022

दो साल बाद अखाड़ों के साथ निकला झिलमिल झांकियों का कारवां

मुंबई के बाद प्रदेश में इंदौर ही ऐसा इकलौता शहर है, जहां गणेश उत्सव को …

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Translate »