शनि वृश्चिक राशि में

वर्तमान में शनि वृश्चिक राशि में चल रहा हैं और रहेगा। इस कारण शनि की साढ़ेसाती और शनि की ढय्या की स्थितियां बदल गई हैं। शनि एक राशि में करीब ढाई साल रहता है।
आइये जाने की किस राशि पर क्या होगा प्रभाव..?
कन्या राशि-
इस राशि को अब शनि से राहत मिलेगी, क्योंकि कन्या राशि से शनि की साढ़ेसाती पूरी तरह समाप्त हो चुकी है। यदि पिछले समय से कोई काम रुका हुआ है तो उसमें गति आ जाएगी और सफलता मिलने की संभावनाएं बढ़ जाएंगी। इन लोगों को हनुमान चालीसा का पाठ समय-समय पर करते रहना चाहिए। ऐसा करने पर सुख-समृद्धि में वृद्धि होगी।
 
तुला राशि-
तुला राशि पर अब साढ़ेसाती की अंतिम ढय्या रहेगी यानी ढाई साल और यह राशि शनि के प्रभाव में रहेगी। ज्योतिष के अनुसार अंतिम ढय्या कई लोगों को शुभ फल प्रदान करती है, शनि ईमानदारी से की गई मेहनत का फल इसी समय में प्रदान करता है। अत: तुला राशि के लोगों के लिए भी शनि कुछ राहत प्रदान करेगा।
 
वृश्चिक राशि-
अभी इस राशि में ही शनि आ गया है, इस कारण इन लोगों को विशेष सावधानी से कार्य करना होगा। वृश्चिक राशि पर शनि की साढ़ेसाती का दूसरा ढय्या रहेगा। आने वाले ढाई साल में मिला-जुला फल मिलता रहेगा। जो व्यक्ति जैसे काम करेगा, शनि उसे वैसा ही फल प्रदान करेगा। अत: धार्मिक आचरण बनाए रखें और किसी का अनादर न करें।
आप सभी शनि पीड़ा / शनि दोष निवारण के लिए ये उपाय कर सकते हैं—-
– हर शनिवार पीपल के वृक्ष की पूजा करें। तांबे के लोटे से जल चढ़ाएं और पीपल की सात परिक्रमा करें।
– हर मंगलवार और शनिवार ऊँ रामदूताय नम: मंत्र का जप करें। मंत्र जप की संख्या कम से कम 108।
 
धनु राशि-
अभी अभी धनु राशि पर शनि की साढ़ेसाती की पहली ढय्या शुरु हो गई है। इस कारण शनि अत्यधिक मेहनत करवा सकता है। मेहनत से पीछे न हटें। कार्यों में बाधा उत्पन्न हो सकती है। अत: धैर्य बनाए रखें और सही समय आने इंतजार करें। शनि की साढ़ेसाती आने वाले साढ़ेसात साल तक रहेगी।
इस समय में शनि से शुभ फल पाने के लिए ये उपाय कर सकते हैं…
– किसी गरीब व्यक्ति को काले कंबल का दान करें। यह उपाय समय-समय पर किया जा सकता है।
– शिवलिंग पर काले तिल अर्पित करें और जल चढ़ाएं।
 
मेष राशि-
अभी मेष राशि पर शनि की ढय्या प्रारंभ हो जाएगी। ढय्या का असर ढाई साल तक बना रहेगा। इस समय में धैर्य और समझदारी के काम करेंगे तो सफलता मिलने की संभावनाएं काफी बढ़ सकती हैं। शनि मेहनत करने वाले लोगों पर विशेष कृपा बरसता है, अत: कार्यों में आलस्य न करें। घर-परिवार में या किसी अन्य वृद्ध व्यक्ति का अनादर ना करें और उनका आशीर्वाद लें।
आप शनि से शुभ फल पाने के लिए ये उपाय कर सकते हैं…
– हर शनिवार को शनि के निमित्त तेल का दान करें। तेल दान करने से पहले तेल में अपना चेहरा देख लेना चाहिए। यह उपाय हर शनिवार किया जाना चाहिए।
– हर मंगलवार और शनिवार को हनुमानजी के सामने चौमुखा दीपक लगाएं। दीपक में इस प्रकार से बत्ती की दीपक को चारों ओर से जलाया जा सके।
 
सिंह राशि-
शनि के वृश्चिक राशि में आने से सिंह राशि पर भी ढय्या शुरू हो गई है। इस समय में आपके द्वारा किए गए सभी अच्छे-बुरे कर्मों का फल शनिदेव प्रदान करेंगे। यदि आपके द्वारा जाने-अनजाने कोई गलत काम हो गया हो तो उसके लिए शनि से क्षमा याचना करें, अन्यथा अशुभ फल मिल सकते हैं। किसी अनादर किया हो या किसी को आहत किया हो तो उससे भी क्षमा याचना करें। शनि की ढय्या के समय में अधार्मिक कार्यों से खुद को दूर रखें।
आप शनि से शुभ फल पाने के लिए ये उपाय कर सकते हैं…
– रात के समय हनुमानजी के सामने सरसो के तेल का दीपक लगाएं। दीपक लगाकर हनुमान चालीसा का जप करें। समय अभाव हो तो किसी एक चौपाई का भी जप कर सकते हैं।
– शिवलिंग पर प्रतिदिन तांबे के लोटे से जल अर्पित करें।
शुभम भवतु..!!!! कल्याण हो…!!जय शनि देव..!!
पं. विशाल दयानन्द शास्त्री
वर्तमान में शनि वृश्चिक राशि में चल रहा हैं और रहेगा। इस कारण शनि की साढ़ेसाती और शनि की ढय्या की स्थितियां बदल गई हैं। शनि एक राशि में करीब ढाई साल रहता है। आइये जाने की किस राशि पर क्या होगा प्रभाव..? कन्या राशि- इस राशि को अब शनि से राहत मिलेगी, क्योंकि कन्या राशि से शनि की साढ़ेसाती पूरी तरह समाप्त हो चुकी है। यदि पिछले समय से कोई काम रुका हुआ है तो उसमें गति आ जाएगी और सफलता मिलने की संभावनाएं बढ़ जाएंगी। इन लोगों को हनुमान चालीसा का पाठ समय-समय पर करते रहना चाहिए। ऐसा…

Review Overview

User Rating: Be the first one !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Translate »