साध्वी देवा ठाकुर ने शराब बंदी आंदोलन का समर्थन किया

जयपुर : हिंदू महासभा की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और देवा इण्डिया फाउंडेशन की चैयरमैन साध्वी देवा ठाकुर सम्पूर्ण शराब बंदी आंदोलन सयोजंक पुनम अंकुर छाबडा के निवास पर पहुची और शराब बंदी आंदोलन के अग्रदूत शहीद स्व श्री गुरशरण जी छाबडा (पूर्व विधायक) के चित्र पर माल्यार्पण कर कहा कि इस महामना ने समाज के हित के लिए अपने प्राणों की आहुति दे दी पर सरकारें अपने फायदे के लिए देश को पतन की ओर ले जा रही है, साध्वी ने बताया की वो पूनम अंकुर छाबड़ा के आंदोलन से प्रेरित हो कर हरियाणा में भी शराबबंदी के लिया प्रयास करते हुए ज्ञापन व् धरने कर रही है ओर इसी क्रम में पूनम अंकुर छाबड़ा को हरियाणा भी बुलाया जा रहा है। संस्कार विहीन समाज को बढावा देने के लिए, यह सब विदेशी साजिशों के चलते हो रहा है पर सभी सरकारे शराब बंदी पर मौन बनी बैठी है, सरकार मे बेठे नेता भी इस शराब के चलते प्रताडित है उनकी खुद की संताने संस्कार विहिन हो चुकी है इसके कई उदाहरण हैं कोई सुसाइड कर रहा है तो कोई शराब के नशे मे हिट एण्ड रन केस का शिकार हो रहा है फिर भी यह लोग अपने चेले चपाटो को पनपाने और चुनावों में शराब से प्राप्त अवैध धन के लिए शराब बंदी पर मौन बने बेठे है पर अब हिंदू महासभा व् जस्टिस फाॅर छाबडा जी संगठन के साथ मिलकर पुरे देश में शराब बंदी की अलख जगाएगा और पुनम अंकुर छाबडा के नेतृत्व में यह आंदोलन सफलता की और बढेगा । और राजस्थान जेसे धर्ममय प्रदेश में सरकार द्वारा संचालित गौ शालाऔ में गायो की मौत के बाद इस सरकार को रहने का कोई हक नहीं, जो पार्टी गाय के नाम पर सत्ता मे आई और अब गौ सेवा के नाम पर नोटंकी कर रहे है एसे लोगों को भगवान भी माफ नहीं करेगा और हिंदु महासभा ऐसे भ्रष्ट लोगों की निंदा करती है । साध्वी ने प्रधानमंत्री मोदी के बयान( गौ दलों) की कड़े शब्दों में निंदा भी की।

इस अवसर पर पुनम अंकुर छाबडा ने साध्वी को शाॅल ओढाकर स्वागत करते कहा कि हमारे गैर राजनीतिक आंदोलन के लिए जो भी राजनिति से उपर उठकर सहयोग करता है उनका स्वागत है और साध्वी जी के समर्थन से आंदोलन को बल मिलेगा ।

Review Overview

User Rating: Be the first one !

: यह भी पढ़े :

क्या कालर पकड़ कर हिला कर धक्का देकर लाइसेंस मांगने का तरीका उचित हैं….?

दमोह । जी हाँ लाइसेंस मांगने का तरीका कालर पकड़ कर हिला कर धक्का देकर …

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Translate »