''भोलापन तेरी आँखों का''

भोलापन तेरी आँखों का ,
क्यूँ उतर-उतर आता है
तेरे रस-भीगे ओंठों में,

शब्द जो निकलना चाहते हैं…
सकुचाकर दबे-दबे से
क्यों ठहर-ठहर जाते हैं,

रह जाते हैं मेरे मनोभाव
टकटकी लगाए से,

सिहर-सिहर जाते हैं
क्यों स्वप्न मेरे
उतरकर मेरी आँखों से
जाने को तेरी आँखों में ?

Author: Dr. Surendra Yadav ( डॉ. सुरेन्द्र यादव )

Review Overview

User Rating: Be the first one !

: यह भी पढ़े :

“याद”

‘याद’ का ना होना ‘भूलना’ नहीं हैजैसे सुख का ना होना दुख नहीं हैऔर उम्मीद …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »