Author Archives: IDS Live

Ra.One

Review :- Rajnikant’s Robot may have pre-dated it, but Ra-One does manage to hold despite the larger-than-life quality of Rajni’s antics as Chitti. Here, Shah Rukh Khan does the train walk sideways and he does it rather well. And if that is not enough, the two desi sci fi heroes have a split second encounter on the streets of Mumbai, ...

Read More »

दीपावली है दीपों का त्यौहार

दीपावली, दीपों का त्यौहार , लाता खुशियाँ ढेर अपार , आता साल में एक ही बार , लगता है ये सबको प्यारा, रोशनी से भरता गगन को , बच्चे लड़ी, पटाखे और फूलझड़ी जलाते हुए, मिठाई, मेबे ,खील बताशे और खाते हुए, तरह-तरह के व्यंजन बनाती मम्मी, बच्चे पुरे उत्साह से भरपूर , दीवाली धूमधाम से मनाते हुए , दुश्मन ...

Read More »

Jumbo 2 : The Return Of The Big Elephant

Review :- Jumbo is back. Unfortunately not with a bang. After having lost his father…and his mother…after waging an epic war against his arch enemy Bhaktavar (Remember the prequel?), this warrior elephant is all out to enjoy the little pleasures of life. Tweens, watch him with his little antics. But then life in the jungle (and destiny) has something else ...

Read More »

तुम्हारे इंतज़ार में…

मैंने कितने ही ख़त लिखे तुम्हें बुलाने के लिए मगर तुम न आए तुम्हारे इंतज़ार से ही मेरी सहर की इब्तिदा होती दोपहर ढलती और फिर शाम की लाली की तरह तुमसे मिलने की मेरी ख्वाहिश भी शल हो जाती सारे अहसासात दम तोड़ चुके होते लेकिन उम्मीद की एक नन्ही किरन मेरी उंगली थामकर मुझे, रात की तारीकियों से ...

Read More »

माना हमारे ख़्वाब की ताबीर तुम नहीं

होठों पे नरम धूप सजाते रहे हैं हम आंखों में जुगनुओं को छुपाते रहे हैं हम माना हमारे ख़्वाब की ताबीर तुम नहीं पलकों पे इनको फिर भी सजाते रहे हैं हम हक़ दोस्ती का यूं तो अदा हो नहीं सका ख़ुद को मगर ज़रूर मिटाते रहे हैं हम ख़ुद अपनी ज़िन्दगी तो सज़ा बनके रह गई राहे-वफ़ा जहां को ...

Read More »

तुम्हारे ख़त मुझे बहुत अच्छे लगते हैं…

तुम्हारे ख़त मुझे बहुत अच्छे लगते हैं क्यूंकि तुम्हारी तहरीर का हर इक लफ्ज़ डूबा होता है जज़्बात के समंदर में और मैं जज़्बात की इस खुनक (ठंडक ) को उतार लेना चाहती हूं अपनी रूह की गहराई में क्यूंकि मेरी रूह भी प्यासी है बिल्कुल मेरी तरह और ये प्यास दिनों या बरसों की नहीं बल्कि सदियों की है ...

Read More »

Indore Garba Maharas 2011 for Limca Book of Records

Navratri is a festival of adoration, dance and music celebrated ver a period of nine nights and devotees offer prayers through Garba with full of energy & enthusiasm. But this year this festive spirit will continue after Navratras in Indore with Garba Maharas 2011′, for attempting to enter in Limca Book of records. Times Event Management and Production House Pvt. ...

Read More »

Force

Review :- A remake of the 2003 Tamil blockbuster Kaakha Kaakha, Force is a heady cocktail of high powered action and breezy romance that ensure there’s never a dull moment. Director Nishikant Kamat too goes the Rohit Shetty-Abhinav Kashyap (Singham-Dabangg) way and tries to create an old-fashioned action film which sticks to the tried-and-tested formula of pitching the hero against ...

Read More »

RVP Bollywood Night

Event Name : RVP Bollywood Night Date : 25 Sept. 2011 at 07.00 Pm Venue : Abhay Prashal, Indore, Madhya Pradesh, India

Read More »

आओ मन की गाँठें खोलें

यमुना तट, टीले रेतीले, घास फूस का घर डंडे पर, गोबर से लीपे आँगन में, तुलसी का बिरवा, घंटी स्वर. माँ के मुँह से रामायण के दोहे चौपाई रस घोलें, आओ मन की गाँठें खोलें. बाबा की बैठक में बिछी चटाई बाहर रखे खड़ाऊँ, मिलने वालों के मन में असमंजस, जाऊं या ना जाऊं, माथे तिलक, आंख पर ऐनक, पोथी ...

Read More »
Translate »