गर्म पानी पिएं और जिंक को अपने खाने में शामिल करें।

कोरोना इलाज के लिए मशहूर हुए ये डॉक्टर / 30 साल से सर्दी-जुकाम और खांसी का इलाज कर रहे डॉ. देवन ने जिंक और गर्म पानी से 7 कोरोना पॉजिटिव मरीजों को ठीक किया
नई दिल्ली. डॉक्टर पीपी देवन केरल से हैं और इन दिनों खासे मशहूर हो रहे हैं। कोरोना के इलाज के अपने अलग तरीकों ने इन्हें चर्चा में ला दिया है। दरअसल, डॉ देवन का मानना है कि जिंक और गर्म पानी आपको कोरोना से बचा सकता है। इनके मुताबिक, शरीर में जिंक का लेवल अगर ठीक रहे तो इंफेक्शन या फिर वायरस शरीर पर असर नहीं डाल सकता। वे जिंक और गर्म पानी से अब तक 7 कोरोना पेशेंट्स का इलाज कर चुके हैं और सभी मरीज ठीक भी हो गए हैं।
30 साल से जुकाम और खांसी का इलाज कर रहे डॉक्टर देवन का कोरोना इलाज का यह तरीका पिछले दिनों सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुआ। कारण साफ है कि क्योंकि कोरोना से बचने के ये उपाय बेहद आसान और आम हैं और इसके लिए पेचीदा इलाज की भी जरूरत नहीं है।
मैंगलुरू के ए.जे. मेडिकल कॉलेज में हेड एंड नेक सर्जरी के प्रोफेसर डॉ देवन के मुताबिक, यदि देश में सभी लोग जिंक को अपने खाने में शामिल कर लें तो कोरोना या इस तरह के किसी भी इंफेक्शन से बचा जा सकता है।
डॉ देवन का कहना है कि अगर सरकार जिंक की टैबलेट को अनिवार्य कर दे और लोग हर दिन ये टैबलेट खाएं तो बिना लॉकडाउन के भी बीमारी की रफ्तार को थामा जा सकता है। तमिलनाडु सरकार अपने हेल्थ वर्कर के लिए जिंक लेने का आदेश जारी कर चुकी है।
डॉ. देवन कहते हैं, कोरोना कोई नया वायरस नहीं है, बस इसकी ताकत इन दिनों बढ़ गई है। इसका बड़ा कारण ये है कि हमारा खानपान बदल गया है। आप हर दिन जो खाते हैं, उसमें जिंक को शामिल कर इस महामारी से बचा जा सकता है। तरबूज, पपीते के बीच, पाइनेपल, अखरोट जिंक से भरपूर होते हैं। या फिर चाहें तो आप टैबलेट के रूप में भी इसे ले सकते हैं। कोरोना से बचाव के इन्हीं आसान तरीकों पर हमने डॉक्टर देवन से बातचीत की..

  1. कोरोना पॉजिटिव के इलाज के लिए आपका तरीका क्या है?
    शरीर में वायरस के आने के तुरंत बाद उसे ट्रीटमेंट देना बेहद जरूरी है। ये इलाज वायरस के शरीर में घुसने के 48 घंटों के भीतर करना होगा। यदि आप जरा भी गले में खराश महसूस करते हैं या थकान हो रही है तो फौरन गर्म पानी पीना शुरू कर दें। इतना गर्म की जिसे पीकर आपको पसीना आए और शरीर का तापमान एक-दो डिग्री बढ़ जाए। वैसे पसीना तो दौड़कर या मेहनत करने से भी आता है, लेकिन गर्म पानी ही वायरस का बढ़ना रोकेगा। अगर शरीर में जिंक का लेवल ठीक है तो इम्युनिटी मजबूत होगी और वायरस मर जाएगा।
  2. खाने में क्या शामिल करें ताकि शरीर में जिंक का लेवल ठीक रहे?
    पपीते और तरबूज के बीज का पावडर बनाकर उसे चावल के साथ खाएं। या फिर 2 अखरोट, कुछ डार्क चॉकलेट, एक दो स्लाइस पाइनेपल के जरिए आप अपनी डाइट में जिंक को शामिल कर सकते हैं। इसके अलावा अपने डॉक्टर से पूछकर जिंक और आयरन टैबलेट्स भी ले सकते हैं।
  3. जिंक किस मात्रा में और कब तक लेना होगा?
    हर दिन 40 एमजी जिंक की जरूरत शरीर को होती है। साउथ इंडिया में रसम पीते हैं उसमें जिंक होता है। लंच-डिनर के बाद फ्रूट्स खाने से भी ये मिलेगा। डॉक्टर जो सिरप-टैबलेट दे, वह आमतौर पर स्वस्थ्य रहने के लिए हफ्ते में दो बार लेना है। कोरोना के वक्त इसे रोज लेना चाहिए। कम से कम दस दिन तक।
  4. क्या शरीर में जिंक के लेवल का ख्याल हमेशा रखने की जरुरत नहीं?
    मेरे पास कुछ बच्चे ऐसे आते हैं जो हमेशा बीमार होते रहते हैं। मैंने उन्हें जिंक को डाइट में शामिल करने के लिए कहा और वो कम बीमार पड़ने लगे। मैं तो यही कहूंगा कि इसे हर दिन इसे खाने में शामिल करना चाहिए।
  5. क्या सभी उम्र के लोग इसे ले सकते हैं?
    कोरोना से 60 साल से ज्यादा उम्र के लोगों की मौत इसलिए हो रही है क्योंकि उनके शरीर में जिंक की कमी है। यदि हम उन्हें जिंक देते हैं तो उन्हें काफी फायदा होगा। इसका कोई साइड इफेक्ट नहीं है। ब्लड प्रेशर या किसी बीमारी से पीड़ित लोग भी जिंक ले सकते हैं। सभी उम्र के लोग इसे ले सकते हैं।
  6. खाने से मिलनेवाला जिंक बेहतर है या दवाई के जरिए इसे लेना ज्यादा ठीक है?
    पहले हम लाल चावल की गंजी पीते थे। बहुत साल पहले ये खाने में शामिल था। तब हार्ट ब्लॉक या अटैक नहीं होते थे। बीकॉम्प्लेक्स खाने से हार्ट ब्लॉकैज नहीं होता। बेहतर होगा खाने में इसे शामिल करें, वरना दवाई ले सकते हैं। लेकिन कैसे लेंगे ये ध्यान रखें। कई बार मैं जिंक टैबलेट देता हूं और ये शरीर में पच नहीं पाता। चावल या नींबू के साथ जिंक लेने से ये शरीर में आसानी से पच जाता है।
    इम्यूनिटी सिस्टम मजबूत करने के लिए चार हिदायतें भी…
    चाय पीना बंद करें। चाय पीने की लत है तो बेहतर है कि पानी, दूध गर्म करें और फिर चाय की पत्ती डालकर उसे जल्दी ही छानकर पी लें। इससे चाय का फ्लेवर भी आएगा और वह नुकसान भी नहीं करेगी। चाय उबालने से उसका कैमिकल बाहर निकलता है और वह शरीर में आयरन जिंक ब्लॉक कर देता है। ग्रीन टी भी उतनी ही नुकसानदायक होती है।
    खाने में नींबू का इस्तेमाल करो। जो भी खाएं चावल, बिरयानी उसमें नींबू डालेंगे तो आयरन जिंक शरीर में एब्जॉर्ब होगा। एक ग्लास गर्म पानी में आधा नींबू मिलाकर भी पी सकते हैं।
    सोने से पहले गर्म दूध में हल्दी मिलाकर पीएं। इससे आपके शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है।
    गर्म पानी पिएं और जिंक को अपने खाने में शामिल करें। खाना खाने के बाद गर्म पानी में जीरा डालकर पीना भी काफी लाभदायक होगा।
  7. साभार :- गिरीश कोपरगावनकर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Translate »