‘दामिनी’ की ‘अमानत’

समय चलते मोमबत्तियां, जल कर बुझ जाएँगी …
श्रद्धा में डाले पुष्प, जल हीन मुर्झा जायेंगे …
स्वर विरोध के और शांति के अपनी प्रबलता खो देंगे …
किन्तु ‘निर्भयता’ की जलाई अग्नि हमारे ह्रदय को प्रज्वलित करेगी …
जल हीन मुरझाये पुष्पों को हमारी अश्रु धाराएं जीवित रखेंगी …
दग्ध कंठ से ‘दामिनी’ की ‘अमानत’ आत्मा विश्व भर में गूंजेगी …
स्वर मेरे तुम, दल कुचलकर पीस न पाओगे …
मै भारत की माँ बहेंनिया बेटी हूँ ,
आदर और सत्कार की मै हक़दार हूँ …
भारत देश हमारी माता है ,
मेरी छोड़ो, अपनी माता की तो पहचान बनो !!

Author: Amitabh Bachchan (अमिताभ बच्चन)

IDS Live

Related Posts

२०२३ की सबसे शानदार कविता

एक अकेला पार्थ खडा है भारत वर्ष बचाने को।सभी विपक्षी साथ खड़े हैं केवल उसे हराने को।।भ्रष्ट दुशासन सूर्पनखा ने माया जाल बिछाया है।भ्रष्टाचारी जितने कुनबे सबने हाथ मिलाया है।।समर…

रंग… अब बिदा भये

बासन्ती बयारों के संग आये रंग, फ़ागुण में छाए और जमकर बरसे अगले बरस फिर लौटकर आने का वादा कर छोड़ गए अपनी रंगत चौक-चौबारों, गली-मोहल्लों में छोड़ गए अपने…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You Missed

सेक्स के अलावा भी कंडोम का उपयोग है?

सेक्स के अलावा भी कंडोम का उपयोग है?

शीघ्रपतन से छुटकारा, अपनाएं ये घरेलु उपाय

शीघ्रपतन से छुटकारा, अपनाएं ये घरेलु उपाय

सेक्स के लिए बाहर क्यूं मुंह मारते है पुरुष ?

सेक्स के लिए बाहर क्यूं मुंह मारते है पुरुष ?

गर्भनिरोधक गोलियों के बिना भी कैसे बचें अनचाही प्रेग्नेंसी से ?

गर्भनिरोधक गोलियों के बिना भी कैसे बचें अनचाही प्रेग्नेंसी से ?

कुछ ही मिनटों में योनि कैसे टाइट करें !

कुछ ही मिनटों में योनि कैसे टाइट करें !

दिनभर ब्रा पहने रहने के ये साइड-इफेक्ट

दिनभर ब्रा पहने रहने के ये साइड-इफेक्ट