वह ‘लड़की’ याद आती है

उम्र की इस दहलीज पर
जब देखकर हमें आईना भी बनाता है अपना मुँह,
कुछ शरमाकर , कुछ इठलाकर
मुसकराती-सी वह लड़की याद आती है ….
जब हम भी थे कुछ उसी की तरह
उसी की उम्र में…उसी की तरह सकुचाकर मुसकराने वाले.
तब हम ऐसे थे…, जैसे कोई पंछी
देखकर परछाई चाँद की जल में
हो जाते थे बावले-से मोहित उसपर,
जानकर बनते हुए अनजान कि
रचाता है वह सारी रात तारों के साथ रास
और
उनसे मिलने की संभावनाएँ सारी
घटती जाती थी उसकी कलाओं की तरह प्रतिदिन.
कभी जाते थे उनके शहर में उनसे मिलने के लिए
हो जाते थे हम अजनबी उनके लिए ,
देखते नहीं थे एक बार भी वे हमें
बात करने की तो बात ही कहाँ थी ?
गुजर गयी उम्र सारी
बात जो मन में थी
मन में ही रह गयी ,
कल जो देखा उन्हें …
थी तो वही…
मुसकराहट भी वैसी ही …
अनजानापन भी वही
पर अब वह …’वह’ नहीं थी
जो थी कभी वह
सोचकर जिसे आज भी
गुनगुनाने को मन करता है …
‘वह लड़की याद आती है’….
”वह लड़की बहुत याद आती है”

Author: Dr. Surendra Yadav ( डॉ. सुरेन्द्र यादव )

IDS Live

Related Posts

२०२३ की सबसे शानदार कविता

एक अकेला पार्थ खडा है भारत वर्ष बचाने को।सभी विपक्षी साथ खड़े हैं केवल उसे हराने को।।भ्रष्ट दुशासन सूर्पनखा ने माया जाल बिछाया है।भ्रष्टाचारी जितने कुनबे सबने हाथ मिलाया है।।समर…

रंग… अब बिदा भये

बासन्ती बयारों के संग आये रंग, फ़ागुण में छाए और जमकर बरसे अगले बरस फिर लौटकर आने का वादा कर छोड़ गए अपनी रंगत चौक-चौबारों, गली-मोहल्लों में छोड़ गए अपने…

One thought on “वह ‘लड़की’ याद आती है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You Missed

सेक्स के अलावा भी कंडोम का उपयोग है?

सेक्स के अलावा भी कंडोम का उपयोग है?

शीघ्रपतन से छुटकारा, अपनाएं ये घरेलु उपाय

शीघ्रपतन से छुटकारा, अपनाएं ये घरेलु उपाय

सेक्स के लिए बाहर क्यूं मुंह मारते है पुरुष ?

सेक्स के लिए बाहर क्यूं मुंह मारते है पुरुष ?

गर्भनिरोधक गोलियों के बिना भी कैसे बचें अनचाही प्रेग्नेंसी से ?

गर्भनिरोधक गोलियों के बिना भी कैसे बचें अनचाही प्रेग्नेंसी से ?

कुछ ही मिनटों में योनि कैसे टाइट करें !

कुछ ही मिनटों में योनि कैसे टाइट करें !

दिनभर ब्रा पहने रहने के ये साइड-इफेक्ट

दिनभर ब्रा पहने रहने के ये साइड-इफेक्ट