Tag Archives: राजीव

चिता का ये धुआं

Indore Dil Se - Artical

मैं नहीं जानता प्राण देह से अर्जित ज्ञान और अनुभव का कितना हिस्सा जाते वक्त पार्थिव में छोडक़र जाता है। अगर वह सारे कोष खाली कर देह को अपशिष्ट की तरह छोड़ जाता हो तब भी प्राण के संसर्ग से अर्जित मेधा का कुछ अंश तो रह ही जाता होगा। मैं चाहता हूं कि वह देह जब अग्नि को समर्पित ...

Read More »
Translate »