Tag Archives: Articles

ढाई अक्षर प्रेम के. . . . .

में कुछ ख्याल बटौर रहा था शब्दों आंगन में, ढाई अक्षर प्रेम के नाम, कुछ लिखने की खातिर | मगर कभी ख्याल खो जाते, कभी शब्द बिखर जाते और मेरी कलम की मुट्ठी खाली की खाली रह जाती | तब याद आया कि प्यार न लिखा जाता है, न किया जाता है, प्यार तो हो जाता है | कभी एक नाम के साथ, ...

Read More »
Translate »