Tag Archives: Shweta Shukla

कलमयुग की तस्वीर

Indore Dil Se - Poets Corner

चेहरे खिले हैं कायरों के जरुर कोई वजह खास है, षड्यंत्र के फंदे में जैसे हुनरबाज की छीन ली साँस है। बेशर्म विधा को देखकर ताली बजा रहे हैं लोग, अम्बर का सर झुक गया धरती भी उदास है। सरेराह सरेआम लुट रही इंसानियत की रूह, मानवता का रक्त पी रहे यह कैसी प्यास है। कलम की मंडी में अब ...

Read More »
Translate »