Tag Archives: Sushma Dubey

” जीजी “

Indore Dil Se - Artical

“अरे सुन, बेटा ये लाइट यहाँ लगा और ये फूलों की झालर ऊपर लेजाकर लगा दे और सुमनिया तू तो सजधज कर अभी तक यहीं खड़ी है अरे जल्दी जाकर देख हरीश भैया तैयार हुआ की नहीं ? पांडे जी की खुशी उनके हर काम से मानो छलक –छलक कर बाहर आ रही थी। खुशी की तो बात थी ही ...

Read More »

शादी ,शादी और सिर्फ शादी

Indore Dil Se - Artical

हमारे देश में शादी जीवन का सबसे अहम और दिलचस्प पड़ाव होता है। बच्चे के जन्म से ही उसकी शादी की प्लानिंग शुरू हो जाती है। अनुभवी बुजुर्ग बच्चों की हरकते और सूरत देखकर ही बता देते है कि,ये शादी के बाद ऐसा ऐसा करेगा/करेगी । लड़की सुंदर हुई तो कहेंगे छोरी तो भोत सुंदर है इसे अच्छा घर वर ...

Read More »

पापा ने समझाया और वह लगन से करने लगा काम

Indore Dil Se - Artical

धवल 8 साल का था,वह जो भी काम करता बेमन से करता ,सुबह उठकर जैसे तैसे 2-4 ब्रश मुँह में लगाता,आधा अधूरा कुल्ला करता ,जैसे तैसे शरीर पर पानी डालकर दोस्तों के साथ बाहर खेलने पहुच जाता। 11 बजे घर आता जल्दी जल्दी खाना निगल कर स्कूल पहुँच जाता। वहाँ भी टूटे -फूटे अक्षरो में लिखता ,सारा दिन टीचर्स कि ...

Read More »
Translate »