भारत की ऐसी जगह जहाँ बीबी के गर्भवती होते ही पति कर लेता है दूसरी शादी

भारत के राजस्थान (राजस्थान, भारत) में एक ऐसा क्षेत्र है, जहां पत्नी के गर्भवती होते ही पति दूसरी शादी कर लेता है। इस शादी का कारण पत्नी को धोखा न देना है। बल्कि एक खास वजह से पति दूसरी शादी (Village Where Husband Remarry After Wife Is Pregnant) बनाता है।

शादी एक व्यक्ति के जीवन में एक बहुत ही महत्वपूर्ण घटना है। विवाह जैसा बंधन पवित्र माना जाता है। खासकर हिंदुओं में शादी का बहुत महत्व होता है। यहां तक ​​कि भारत के कानून में भी हिंदू धर्म के अनुसार विवाह की अनुमति है।

लेकिन भारत के एक ही राज्य में एक ऐसा इलाका है जहां पुरुष आराम से शादी कर लेते हैं। इस विवाह की अनुमति तभी दी जाती है जब व्यक्ति की पत्नी गर्भवती हो (Village Where Husband Remarry After Wife Is Pregnant) जाती है। यह शादी एक खास मकसद से की जाती है।

सात जन्मों तक एक-दूसरे का साथ देने का वादा करने वाला पति पत्नी के गर्भवती होते ही दोबारा शादी कर लेता है। इसके बावजूद पत्नी या समाज उसे कुछ नहीं बताता। इसका एक कारण है, वह कारण है पानी। जी हां, पानी ही वह कारण है, जिससे गर्भवती पत्नी भी खुशी-खुशी अपने पति की दोबारा शादी करवा देती है।

अब आप सोच रहे होंगे कि आखिर इसका कारण क्या है? आज हम आपको उस गांव की कहानी बताने जा रहे हैं, जहां एक पत्नी पेट में बच्चा होने पर भी अपने पति की शादी सिर्फ पानी के लिए कर देती है।

एक और पत्नी पानी ले जाने आती है यह राजस्थान के बाड़मेर जिले का एक अजीबोगरीब रिवाज है। यहां बसे डेरासर गांव में सदियों से एक अजीब परंपरा निभाई जा रही है। इस गांव में जब भी किसी व्यक्ति की पत्नी गर्भवती होती है तो उसका पति तुरंत दूसरी शादी कर लेता है।

इस शादी से उनकी पत्नी या गांव में किसी को कोई आपत्ति नहीं है। दरअसल, इस इलाके में पानी की काफी किल्लत है. ऐसे में महिलाएं दूर-दूर से पानी लाती हैं। लेकिन जब एक महिला गर्भवती हो जाती है तो वह पानी नहीं भर पाती है। ऐसे में जातक दूसरी शादी करता है।

पत्नी भी नहीं करती विरोध
इस क्षेत्र में पेयजल की घोर किल्लत है। पुरुष घर का काम नहीं करते हैं। ऐसे में महिलाएं घूंघट पहनती हैं और पानी भरने के लिए दूर-दूर तक जाती हैं। लेकिन जब कोई महिला गर्भवती हो जाती है तो उसके लिए पानी लाना मुश्किल हो जाता है।

Review Overview

User Rating: 4.7 ( 1 votes)

: यह भी पढ़े :

रामायण” क्या है ?

“रामायण” भोग की नहीं…. त्याग की कथा हैं..!अगर कभी पढ़ो और समझो तो आंसुओ पे …

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Translate »