याद रखना

वफ़ा में कुछ कमी थी याद रखना,
मगर तू ज़िन्दगी थी याद रखना !

नमी-सी कुछ तेरी आँखों में पाकर,
कोई दुनिया जली थी याद रखना !

जो सूखा फूल बिखरा है ज़मीं पर,
कभी वो भी कली थी याद रखना !

रहे वो दिल में या जब तक नज़र में,
यहाँ भी रोशनी थी याद रखना !

तसल्ली इस तरह देता हूँ खुद को,
”धरम” ये दिल्लगी थी याद रखना !

Author: धर्मेन्द्र ”आज़ाद”

: यह भी पढ़े :

हम रीते ही मर जाएंगे…

युद्ध की आहट पर पनपता है प्रेमविदा होते हुए प्रेमीशिद्दत से चूमते हैं एक-दूसरे कोऔर …

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Translate »