IDS Live - News & Infotainment Web Channel

यह वायरस के विरुद्ध लड़ाई और वायरस से भी डरने की जरूरत नहीं- मनीष सिंह

इंदौर : कलेक्टर मनीष सिंह ने कहा कि कोरोना वायरस से डरे नही , क्योकि 65% पेशेंट को पता नहीं चलता घर में रहकर ठीक भी हो जाते हैं । 10 से 15 परसेंट हॉस्पिटलाइज रहते हैं वह भी केयर के बाद में ठीक हो जाते हैं। कुछ प्रिकॉशंस जरूरी होते हैं उनके लिए ।

अभी जो किया है वह काफी जरूरी था 24 घंटे के लिए सख्ती जरूरी थी कल 1:00 बजे से लेकर 1:00 बजे तक 24 घंटे पूरे हो जाएंगे । 24 घंटे पूरे शहर को सेनेटाइज न करने के लिए बहुत जरूरी था, जहां भी करोना वायरस बाहर था वो जनता काफी प्रभावित कर रहा था । शहर में 24 घंटे में कोरोनावायरस यदि वह हवा में है या बाहर है डेड हो जाता है ये जितनी स्टडीज हुई उसमें ज्ञात हुआ है। इसलिए काफी जरूरी लेकिन 24 घंटों में किसी भी संपर्क में आता है उसे प्रभावित कर क्योंकि हम भी जानते हैं सख्ती से शहर कि जनता को परेशानी हुई है पर ये जरूरी है। आज शाम को 5:00 से 7:00 दूध बांटा जाएगा। सांची से हमारी बात हो गई है और जो लोग गाड़ी लेकर आते हैं उन को ना रोका जाए । कल सा त पेशेंट पॉजिटिव आए हैं अभी हम लोग सख्ती करके बेक हेंड पर सारी टीमें हमारी जा रही है कि जहां भी व्यक्ति पॉजिटिव पाया जा रहा है उसके परिवार को कोरांतायिल में डाल रहे हैं वहां अन्य व्यवस्था की है उनकी लैब टेस्टिंग की जा रही है ताकि हम और लोगों को होने से रोक पाए इसलिए कोरोनावायरस एक से दूसरे दूसरे से तीसरे को प्रभावित कर रहा है जिन लोगों को करं टायिल किया गया है उन्हें 14 दिन अलग रखा जाएगा उनकी टेस्टिंग की जाएगी कुछ मरीज मैरिज गार्डन को कोरंतायिल बनाया है वहां रखेंगे और फिर देखा जाएगी वह व्यक्ति किन किन लोगों के संपर्क में है तो 6 घंटे के अंदर उन लोगों को भी हम लोग ऐसे स्थानों पर करेंगे स्थानों पर हल्की कारवाई कर रहे हैं ।

हमारा मेन चैलेंज नयापुरा, रानीपुरा ,हाथीपाला इन इलाकों को टेकल करना है। समझ नहीं आ रहा है कि कितने लोग पॉजिटिव है कल जो रिपोर्ट आई है उसमें संख्या कम है अभ एक जांच रिपोर्ट और आना है उसमें देखना होगा कि कितने आएंगे । यदि नियंत्रित हो गया तो बाकी लगा तो हम पूरा कवर कर लेंगे।

चंदन नगर में भी काफी हद तक नियंत्रण कर दिया है रात भर में लगभग 100 लोगों को करंट टाइम किया गया।

ऐसे ही खजराना में भी काफी लोगों को शिफ्ट किया है आज आजाद नगर में एक आया है वहां भी हम ने कोरांटायिल की कार्रवाई कर रहे हैं।

जिस तरह से जनता सहयोग कर रही, जनप्रतिनिधि है जिस तरह से मीडिया सहयोग कर रही है, जिससे बाकी लोग सहयोग करें मुझे पता है कि लोगों को कुछ तकलीफ हो रही है लेकिन दूध के पाबंदी भी लगाते समय हमें पता था कि यह तकलीफ होगी लेकिन हम शाम को 5:00 से 7:00 तक दे रहे हैं और कल सुबह भी 1 घंटे का समय रहेगा जल्दी आदेश जारी होगा।

यह जो भी हम कर रहे हैं वह जनता के लिए रहवासियों की स्वास्थ्य की सुविधा के लिए यह कर रहे हैं यह जो कल रानीपुरा में हुई घटना यदि ऐसा होगा तो स्वास्थ्य कर्मचारी अधिकारी पुलिस कर्मचारी जो लगे हैं उनकी सुरक्षा हमारी प्राथमिक जिम्मेदारी है उनके साथ दुर्व्यवहार होगा तो देखने के लिए f.i.r. करेंगे।

फूड डिलीवरी आज हम लोगों का स्टाइलिश हो जाएगा। हर किसी को नहीं दिया जाएगा पर 35 लाख लोगों में यह संभव भी नहीं है कि हर घर में दिया जाए और सब लोगों ने किराना रखा हुआ भी है। लेकिन जो गरीब परिवार है जो इतना स्टोर नहीं कर सकता उन लोगों के लिए व्यवस्था कर रहे हैं लगभग 5000 राशन के पैकेट हम लोगों ने बनवाए हैं उनके माध्यम से टीमें अलग-अलग जाना शुरू हो जाएगी।

जब तक कोरिना क़ट्रोल नहीं होगा पेशेंट का जाना कंट्रोल नहीं होगा किसी का भी शहर से जाना और किसी का भी शहर के अंदर आना रिस्की होगा ।यह कर्फ्यू जनता के स्वास्थ्य के लिए है कोई दंगा फसाद या अन्य कर्फ्यू नहीं है यह वायरस के विरुद्ध लड़ाई और वायरस से भी डरने की जरूरत नहीं है हम लोग रोज मेडिकल ऑफिस में बैठ रहे हैं जा रहे हैं बस कर रहे हैं 80% लोग तो ऐसे ही ठीक हो जाते हैं 50 -60% लोगों को तो पता ही नहीं चलता कि कब वायरस में लगा और कब ठीक हो गया। इसलिए घबराने की आवश्यकता नहीं है हम लोग कंट्रोल भी करेंगे।

क्लीनिक बंद करने के निर्देश हमने दिए हैं क्योंकि कई शहरों में जहां कोरोना फेला था वहां स्थिति इसी वजह से खराब हुई कि क्लीनिक खुली हुई थी इफेक्टेड थी ऐसे में जों लोग क्लिनिक्स में गए हैं वह प्रभावित हुए।

वैसे सारे निजी अस्पताल वाले सहयोग कर रहे हैं उनकी एक मांग थी कि उन्हें किडनैप दी जाए वह कि हम दे रहे हैं तो जो भी ऐसे डॉक्टर से अस्पतालों में जाकर पूरी सुरक्षा के साथ वहां सेवाएं दे सकते हैं

हम लोग वर्गीकरण कर रहे हैं शहर के अधिकांश अस्पताल ग्रीन केटेगरी में रहेंगे जहां कोरोनावायरस के पेशेंट को वहां एंट्री नहीं रहेगी येलो अस्पताल में कोरोना के सिम्टम्स वाले पेशेंट वहां जाएंगे जिला अस्पताल 78 हम लोग कर रहे हैं एक माह में कर रहे हैं बाकी इंदौर में हैसर्दी खांसी में भी कई लोगों को डर बैठ रहा है जरूरी धमकी सर्दी खासी हो तो कोरोनावायरस की हो।कभी डर बैठ जाता है इसलिए यह लो हॉस्पिटल में जाएंगे अरविंदो भी आज से शुरू कर रहे हैं वहां पेशेंट शिफ्ट भी कर रहे हैं अरविंद और एमवाई टीवी हॉस्पिटल कैंपस में भी कोविड-19 पॉजिटिव पेशेंट रहेंगे यह व्यवस्था आज से लागू कर रहे हैं और इन हॉस्पिटल्स में हम लोग कीट भी भिजवा रहे हैं

: यह भी पढ़े :

मध्यप्रदेश को मिले 8 राष्ट्रीय पर्यटन पुरस्कार

राष्ट्रीय पर्यटन पुरस्कार में छाया मध्यप्रदेश, मिले 8 पुरस्कार। स्वच्छता में लगातार पांच बार नंबर …

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Translate »