राष्ट्रीय औसत से अधिक सफलता मिली प्रदेश को

इंदौर (पारस जैन) प्रदेश में नवजात शिशुओं की मृत्यु दर में तीन अंक की महत्वपूर्ण गिरावट दर्ज की गई है। जहाँ राष्ट्रीय स्तर पर नवजात शिशु मृत्यु दर में एक अंक और बाल मृत्यु दर में तीन अंक की गिरावट दर्ज की गई है वहीं प्रदेश में नवजात शिशु मृत्यु दर में 3 अंक की गिरावट और बाल मृत्यु दर में 4 अंक की गिरावट उल्लेखनीय है।

रजिस्ट्रार जनरल अॉफ इंडिया, नई दिल्ली द्वारा जारी एसआरएस बुलेटिन 2013 के अनुसार प्रदेश में नवजात शिशु गहन चिकित्सा इकाइयों के संचालन से ऐसे बच्चों की जिंदगी बचाने में कमयाबी मिली है जो या तो गंभीर रूप से बीमार थे या समय पूर्व जन्में थे या फिर कम वजन के थे। इन इकाइयों के जरिए अब तक 2 लाख 86 हजार से अधिक नवजात शिशुओं को उपचार प्रदान किया गया। लगभग 2.5 लाख नवजात बच्चों का जीवन बचाने में सफलता प्राप्त हुई है। राज्य में लगभग 50 हजार बच्चों को प्रत्यक्ष तौर पर असामयिक मृत्यु से बचाने का कार्य हुआ है। इस वर्ष जन्म से24 घंटे के भीतर बचाए गए बच्चों की संख्या 21 हजार और 5 वर्ष तक की आयु के बच्चों की संख्या 29 हजार है।

प्रदेश में इस वर्ष प्रारंभ ममता अभियान के बाद आने वाले वर्षों में बच्चों और माताओं की असमय मृत्यु को कम करने में और अधिक सफलता प्राप्त होगी। भारत सरकार ने न्यू बोर्न एक्शन प्लान के अनुसार नवजात शिशु मृत्यु दर में कमी लाने के लिए जो मापदंड आवश्यक माने हैं उनमें प्रसव और शिशु जन्म के दौरान गुणवत्तापूर्ण देखभाल महत्वपूर्ण है। प्रदेश में इस पर पूरा ध्यान दिया जा रहा है। इसके अलावा गंभीर रूप से रुग्ण और कमजोर शिशु की अच्छी देखभाल और ममता अभियान में सर्पोटिव सुपरविजन करते हुए राज्य स्तर पर नियमित मानीटरिंग की व्यवस्था की गई।

मुख्यमंत्री, मुख्य सचिव और स्वास्थ्य मंत्री ने दी बधाई
प्रदेश को स्वास्थ्य क्षेत्र में प्राप्त इस उपलब्धि के लिए मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चैहान, मुख्य सचिव श्री अन्टोनी डिसा और लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ.नरोत्तम मिश्रा ने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों तथा कर्मचारियों को बधाई दी है।

मुख्य सचिव श्री डिसा ने स्वास्थ्य योजनाओं को और गतिशील करने के निर्देश भी दिए हैं। प्रमुख सचिव स्वास्थ्य श्री प्रवीर कृष्ण ने चिकित्सकों सहित समस्त स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं और टीम हेल्थ के सदस्यों को बधाई देते हुए बच्चों और माताओं के स्वास्थ्य की और बेहतर देखभाल के लिए सक्रिय भूमिका निभाते रहने की अपेक्षा की है।

Demo

Related Posts

इंदौर के इतिहास में पहली बार कांग्रेस प्रत्याशी ने चुनाव मैदान छोड़ा

कैसे हो गया इंदौर में ‘बम’ विस्फोट किसी को भनक नहीं लगी ! राम के नारों पर आपत्ति और कैलाश की सक्रियता कांग्रेस को ले डुबी ! लोकसभा सीट से…

मध्य प्रदेश में बना दुनिया का सबसे ऊंचा जैन मंदिर

मध्य प्रदेश के दमोह जिले के कुण्डलपुर में जैन धर्म के प्रथम तीर्थंकर भगवान आदिनाथ का दुनिया का सबसे उंचे मंदिर का बन चुका है। कुण्डलपुर में बन रहे इस…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You Missed

सेक्स के अलावा भी कंडोम का उपयोग है?

सेक्स के अलावा भी कंडोम का उपयोग है?

शीघ्रपतन से छुटकारा, अपनाएं ये घरेलु उपाय

शीघ्रपतन से छुटकारा, अपनाएं ये घरेलु उपाय

सेक्स के लिए बाहर क्यूं मुंह मारते है पुरुष ?

सेक्स के लिए बाहर क्यूं मुंह मारते है पुरुष ?

गर्भनिरोधक गोलियों के बिना भी कैसे बचें अनचाही प्रेग्नेंसी से ?

गर्भनिरोधक गोलियों के बिना भी कैसे बचें अनचाही प्रेग्नेंसी से ?

कुछ ही मिनटों में योनि कैसे टाइट करें !

कुछ ही मिनटों में योनि कैसे टाइट करें !

दिनभर ब्रा पहने रहने के ये साइड-इफेक्ट

दिनभर ब्रा पहने रहने के ये साइड-इफेक्ट