Short/Funny Stories

अभियंता दिवस विशेष..

ब्रिटेन में एक ट्रेन द्रुत गति से दौड़ रही थी। ट्रेन अंग्रेजों से भरी हुई थी। उसी ट्रेन के एक डिब्बे में अंग्रेजों के साथ एक भारतीय भी बैठा हुआ था। डिब्बा अंग्रेजों से खचाखच भरा हुआ था। वे सभी उस भारतीय का मजाक उड़ाते जा रहे थे। कोई कह रहा था, देखो कौन नमूना ट्रेन में बैठ गया। तो …

Read More »

रामायण” क्या है ?

“रामायण” भोग की नहीं…. त्याग की कथा हैं..!अगर कभी पढ़ो और समझो तो आंसुओ पे काबू रखना…रामायण का एक छोटा सा वृतांत है, उसी से शायद कुछ समझ सको… एक रात की बात हैं, माता कौशल्या जी को सोते में अपने महल की छत पर किसी के चलने की आहट सुनाई दी।नींद खुल गई, पूछा कौन हैं ? मालूम पड़ा …

Read More »

ड्रिंक एंड ड्राइव

माँ मैं एक पार्टी में गया था।तूने मुझे शराब नहीं पीनेको कहा था, इसीलिए बाकी लोग शराब पीकर मस्ती कर रहे थे और मैं सोडा पीता रहा।लेकिन मुझे सचमुच अपने परगर्व हो रहा थामाँ, जैसा तूने कहा था कि ‘शराब पीकरगाड़ी नहीं चलाना’। मैंने वैसा ही किया।घर लौटते वक्त मैंने शराब को छुआ तक नहीं, भले ही बाकी दोस्तों नेमौजमस्ती …

Read More »

बुरा जो देखन मैं चला….

IDS Live

अफगानिस्तान के मौजूदा हालात जब हमारी काम वाली मेहरी को पता चले तो वो गुस्से से भर गई. अपनी कमर पर साड़ी बांधते हुए बोली, “मेरे जैसी हो तो चप्पल ही चप्पल दे मारे उन नासमिटो को ? बड़े आये औरतों को औकात में रखने वाले…….” बडबडाते हुए वह अपने थर्ड हैण्ड मोबाईल पर “सनम बेवफा….” गाना चलाकर कचरा बुहारने …

Read More »

कोरोना काल में चिंतकों की चिंता

यूँ तो भारत सदैव ही महान चिंतकों और चिंतितों का देश रहा है, लेकिन कोरोना काल में देश में चिंतकों का जैसे सैलाब सा आ गया है। प्यारे जी इसी सैलाब में उफनकर आये हुए चिंतक हैं और अक्सर चिंतित रहते हैं। लेकिन भारत जैसे खिचड़ी देश में चिंतक होना भी कहाँ आसान है। हमारे यहाँ समस्याओं की आवृत्ति इतनी …

Read More »

सदैव सकारात्मक रहें..

IDS Live

महाराज दशरथ को जब संतान प्राप्ति नहीं हो रही थी तब वो बड़े दुःखी रहते थे…पर ऐसे समय में उनको एक ही बात से हौंसला मिलता था जो कभी उन्हें आशाहीन नहीं होने देता था… और वह था श्रवण के पिता का श्राप…. दशरथ जब-जब दुःखी होते थे तो उन्हें श्रवण के पिता का दिया श्राप याद आ जाता था… …

Read More »

शादी ,शादी और सिर्फ शादी

Indore Dil Se - Artical

हमारे देश में शादी जीवन का सबसे अहम और दिलचस्प पड़ाव होता है। बच्चे के जन्म से ही उसकी शादी की प्लानिंग शुरू हो जाती है। अनुभवी बुजुर्ग बच्चों की हरकते और सूरत देखकर ही बता देते है कि,ये शादी के बाद ऐसा ऐसा करेगा/करेगी । लड़की सुंदर हुई तो कहेंगे छोरी तो भोत सुंदर है इसे अच्छा घर वर …

Read More »

हार का ठीकरा

वर्ल्ड कप क्रिकेट के सेमी फाइनल मैच की हार का ठीकरा सोश्यल साइटों पर अनुष्का पर ही फोड़ा जा रहा है जैसे वो ही टीम की कप्तान हो 11 खिलाड़ियों  की कोई जबावदारी ही नहीं बैट्समेन और बॉलरों ने काफी निराश किया| सोश्यल साइटों  पर न जाने क्या -क्या बकवास चल रही है हर कोई अपने -अपने तरीकों  से उस …

Read More »

शादी और गणित

सीजन प्रधान देश में शादियों का सीजन चल रहा है शादियां अब कहां रही सादी, पुराने लोग कहते थे बर्बादी ,सही आज यह बात सच साबित हो रही है शादी में अंक शास्त्र की घुसपैठ पत्रिका गुण मिलान से ही हो जाती है और फिर सात फेरे से मजबूत होता है गठ बंधन l बांकेलाल जी कहने लगे कि व्यंजनों …

Read More »
Translate »