बायो गैस संयंत्र ने बदली ज़िन्दगी

बायो गैस ने लोगों की ज़िन्दगी को बेहतर बना दिया है । देश के अनेक गांवों में अब महिलाएं लकड़ी के चूल्हे पर खाना नहीं पकातीं, क्योंकि उनकी रसोई में…

अहंकार हार गया और राहुल जीत गए

ये राहुल गांधी का धैर्य, विनम्रता और शालीनता ही है कि उन्होंने विपरीत हालात का हिम्मत से मुक़ाबला किया। जब भारतीय जनता पार्टी द्वारा उनके नेतृत्व पर सवाल उठाए गए,…

मिलावटी मिठाइयों से सावधान !

त्यौहार के दिनों मे बाज़ार में नक़ली मावे और पनीर से बनी मिठाइयों का कारोबार ज़ोर पकड़ लेता है. आए-दिन छापामारी की ख़बरें सुनने को मिलती हैं कि फ़लां जगह…

मैं तुझे फिर मिलूंगी

अमृता प्रीतम की रचनाओं को पढ़कर हमेशा सुकून मिलता है. शायद इसलिए कि उन्होंने भी वही लिखा जिसे उन्होंने जिया. अमृता प्रीतम ने ज़िंदगी के विभिन्न रंगों को अपने शब्दों…

सिर्फ़ अपनी पीठ न थपथपाये सरकार

देश में आज भी छोटे-बड़े क़स्बों और गांव-देहात में पारंपरिक चूल्हे पर खाना पकाया जाता है। इनमें लकड़ियां और उपले जलाए जाते हैं। इसके अलावा अंगीठी का भी इस्तेमाल किया…

बयानबाज़ी नहीं, कार्रवाई होनी चाहिए

गंगा-जमुनी तहज़ीब हमारे देश की रूह है. संतों-फ़क़ीरों ने इसे परवान चढ़ाया है. प्रेम और भाईचारा इस देश की मिट्टी के ज़र्रे-ज़र्रे में है. कश्मीर से कन्याकुमारी तक हमारे देश…

सुनने की फुर्सत हो तो आवाज़ है पत्थरों में

ये कहानी है दिल्ली के ’शहज़ादे’ और हिसार की ’शहज़ादी’ की. उनकी मुहब्बत की. गूजरी महल की तामीर का तसव्वुर सुलतान फ़िरोज़शाह तुगलक़ ने अपनी महबूबा के रहने के लिए…

मुद्दा सरकारी सुविधाओं के दुरुपयोग का

भारत एक ऐसा देश है, जिसमें निज़ाम के लिहाज़ से कई देश बसते हैं. देश का एक निज़ाम अमीरों के लिए है, राजनेताओं के लिए है, प्रभावशाली लोगों के लिए…

नेशनल हेराल्ड से उम्मीद जगी

अख़बारों का काम ख़बरों और विचारों को जन मानस तक पहुंचाना होता है. सूचनाओं के इसी प्रसार-प्रचार को पत्रकारिता कहा जाता है. किसी ज़माने में मुनादी के ज़रिये हुकमरान अपनी…

जनवादी पत्रकारिता की बात करें

ख़बरों और विचारों को जन मानस तक पहुंचाना ही पत्रकारिता है. किसी ज़माने में मुनादी के ज़रिये हुकमरान अपनी बात अवाम तक पहुंचाते थे. लोकगीतों के ज़रिये भी हुकुमत के…